ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। सरकारी कार्यालय में 10 प्रतिशत विद्युत बचत के आदेश के बावजूद लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) के पड़ाव स्थित कार्यालय में स्टाफ द्वारा उपयोग किए जा रहे हीटरों को बंद करा दिया गया है। नईदुनिया ने गत 26 जनवरी के अंक में 'बिजली बचत के नाम पर मुख्यमंत्री से ली शाबाशी, अब भी दफ्तरों में जला रहे हीटर" शीर्षक से समाचार प्रकाशित कर इस मामले का खुलासा किया था। इसके बाद विभाग के कार्यपालन यंत्री ओमहरि शर्मा ने कार्यालय में स्टाफ द्वारा उपयोग किए जा रहे हीटरों को बंद कराया और सभी को चेतावनी दी है कि अब दफ्तर में हीटरों का बिल्कुल उपयोग नहीं किया जाएगा। उन्होंने स्टाफ को सख्त हिदायत दी है कि सर्दी से बचने के लिए बिजली की बर्बादी करने के बजाय पर्याप्त गर्म कपड़े पहनकर आएं। यदि अब कार्यालय में किसी कर्मचारी की सीट पर हीटर चलता नजर आता है, तो उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी। गौरतलब है कि ग्वालियर में सरकारी कार्यालयों में 10 प्रतिशत बिजली की बचत करने के आदेश कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने जारी किए थे। बिजली बचत की पहल को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी सराहा था और इस माडल को अन्य जिलों में लागू करने के निर्देश भी दिए थे। इसके उलट पीडब्ल्यूडी सहित अन्य कार्यालयों में स्टाफ तापने के लिए हीटरों का उपयोग कर रहा था।

वर्जन

बंद करा दिए हैं हीटर

कार्यालय में चल रहे सभी हीटरों को मैंने बंद करा दिया है। इसके अलावा स्टाफ को सख्त हिदायत दी गई है कि अब कार्यालय में हीटरों का उपयोग नहीं किया जाए।

ओमहरि शर्मा, कार्यपालन यंत्री पीडब्ल्यूडी

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local