ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। आए दिन लिंक या मैसेज पर क्लिक करने मात्र से बैंक खाते से पैसे पार होने की घटनाएं सामने आ रही हैं। खासबात यह है कि साइबर फ्राड से केवल जागरूक होकर ही बचा जा सकता है। इसलिए किसी भी अनजान लिंक और मैसेज पर क्लिक न करें। यदि ऐसा किया तो आप ठगों का शिकार हो सकते हैं। हम यहां कुछ टिप्स बता रहे हैं, जिनसे आप साइबर फ्राड से बच सकते हैं।

सायबर फ्राड से ऐसे बचें

- एडवांस भुगतान न करें।

- अजान मैसेज पर क्लिक न करें।

- मैसेज में दी गई लिंक फिसिंग लिंक ही होती है, इस पर क्लिक न करें।

- अगर डिजिटल भुगतान कर रहे हैं तो उस खाते का इस्तेमाल करें, जिसमें रुपये कम हैं।

- पे-वालेट की ट्रांजेक्शन लिमिट तय कर रखें। पांच या दस हजार से अधिक ट्रांजेक्शन लिमिट न रखें।

- वाईफाई वाले कार्ड में भुगतान की लिमिट कम रखें।

- किसी को गोपनीय पिन, कार्ड का नंबर, एक्सपायरी डेट, सीवीवी नंबर न दें।

सावधान: त्योहार पर ठगी के लिए ये चार तरीके अपनाते हैं ठग

- त्योहार नजदीक आ गया है। अब कई कंपनियां ग्राहकों को लुभाने के लिए नए-नए आफर लाती हैं, लेकिन इन्हीं आफर के बीच कुछ ठग भी जाल में फंसाते हैं। चार तरीके ऐसे हैं, जिन्हें त्योहार के समय ठग अपनाकर ठगी करते हैं। छोटी सी चूक आपका खाता खाली कर सकती है। त्

- सस्ता सामान: किसी बड़ी कंपनी के नाम से लुभावना आफर भेजा जाता है, सस्ते सामान के लालच में लोग एडवांस भुगतान कर देते हैं। लोग यह तक नहीं पता करते कि जो मैसेज आया है वह कंपनी से ही है या नहीं। यह विज्ञापन फेसबुक, इंस्टाग्राम पर सबसे ज्यादा आते हैं।

- फिसिंग लिंक: कंपनियों के नाम से ठग लिंक भेजते हैं। यह फिसिंग लिंक होती हैं, इस पर क्लिक करते ही स्क्रीन शेयरिंग एप डाउनलोड हो जाता है। लोगों को कुछ समझ ही नहीं आता, उनका मोबाइल, पे-वालेट हैक हो जाता है। फिर ठगी हो जाती है।

- लाटरी: लाटरी लगने के मैसेज भी त्योहार के समय खूब आते हैं। यह ठगों द्वारा भेजे जाते हैं, इसमें भी फिसिंग लिंक का उपयोग किया जाता है या फिर सीधे फोन कर लोगों को फंसाते हैं।

लोन: इंस्टेंट लोन, दीपावली आफर का झांसा देकर सस्ती ब्याज दरों पर लोन का झांसा देकर ठगी होती है।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close