Independence Day 2020 : हरिओम गौड़, श्योपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के साथ कदमताल मिलाते हुए आजादी की लड़ाई में अहम योगदान देने वाले खान अब्दुल गफ्फार खान (सीमांत गांधी) का सम्मान देश में विशेष है। कुछ इसी तरह का सम्मान बड़ौदा के उस रंगरेज परिवार का है, जो स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर निकाली जाने वाली प्रभातफेरी में तिरंगा लेकर पूरे कस्बावासियों का नेतृत्व करता है।

इस स्वतंत्रता दिवस को भी राष्ट्रीय पर्व की शुरूआत नगर में निकलने वाली प्रभात फेरी के साथ होगी, मगर शारीरिक दूरी के साथ। प्रभात फेरी में लॉकडाउन की वजह से गिने-चुने लोग होंगे, इस बीच तिरंगा हमेशा की तरह सुल्तान रंगरेज के हाथों में रहेगा।

यह परंपरा बड़ौदावासियों ने 15 अगस्त 1947 में शुरू की थी, जो आज भी जारी है। इस परंपरा के जानकारों ने बताया कि 71 साल पहले जब आजादी का ऐलान हुआ तो सुल्तान के दादा मौला बख्स हाथ में तिरंगा लिए वंदे मारतम व हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने हुए बड़ौदा की सड़कों पर दौड़े।

मौला बख्स के देहांत के बाद उनके चार बेटों में से बड़े बेटे इब्राहिम बख्स ने इस परंपरा को निभाया और अब इब्राहिम का बेटा सुल्तान इस परंपरा को आगे बढ़ा रहा है। मौला बख्श को उस समय बड़ौदा का सीमांत गांधी कहा जाता था। नाम के अनुसार मौला बख्श के परिवार को आज भी कस्बावासी ऐसा ही सम्मान देते हैं। इस क्षेत्र में स्वतंत्रता दिवस और प्रभातफेरी का नेतृत्व आज भी इसी परिवार का सदस्य करता है।

महात्मा गांधी ने शुरू की थी प्रभात फेरी की परंपरा

प्रभात फेरी निकालने की परंपरा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने शुरू की थी। महात्मा गांधी आजादी से पहले से ही प्रभात फेरी निकालते थे। तब प्रभात फेरी में रघुपति राघव राजा राम, ईश्वर अल्लाह तेरो नाम, सबको सनमति दे भगवान गीत गाए जाते थे। तब अधिकतर मौकों पर प्रभात फेरी का नेतृत्व गांधी जी के सहयोगी खान अब्दुल गफ्फार खान तिरंगा हाथ में लेकर किया करते थे। इसी का अनुसरण दूसरे शहरों में भी किया जाने लगा। आजादी के बाद हर शहर, गांव में प्रभात फेरी निकालने का चलन शुरू हुआ, जो आज स्वतंत्रता व गणतंत्र दिवस की मुख्य परंपरा में शामिल हो गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020