ग्वालियर (ब्यूरो)। शहर के कटोराताल स्थित प्रतिष्ठित जोधपुर मिष्ठान भंडार जहां से आंखे बंद कर आप मिठाई खरीदते हैं, वहां मिठाई बनने का तरीका देख आप हैरान रह जाएंगे। सोमवार को एसडीएम पुष्पा पुषाम और फूड सेफ्टी टीम का माथा भी ठनक गया जब देखा जिस टंकी से शौचालय के लिए पानी आ रहा था वहीं से मिठाई बनाने के लिए पानी की सप्लाई ली जा रही थी। जहां मिठाइयां बन रहीं थीं वहां से दो कदम की दूरी पर शौचालय था। टूटा दरवाजा और दुर्गंध।

एसडीएम ने स्टाफ से पूछा कि मिठाइयों के लिए पानी कहां से लाते हो तो सब चुप्पी साध गए। यहां से एसडीएम ने मावा का सैंपल कलेक्ट कराया। सोमवार को सभी बड़े प्रतिष्ठानों पर कार्रवाई हुई जिसमें बहादुरा स्वीटस, शान शौकत और मिठास शामिल हैं।

एसडीएम पुष्पा पुषाम ने बताया कि कटोराताल स्थित जोधपुर मिष्ठान भंडार के यहां जहां मिठाइयां बन रहीं थीं वहीं शौचालय पास में ही था। एक टंकी पानी की मिली जिसकी सप्लाई शौचालय के लिए थी और यहीं से सप्लाई लेकर पानी का मिठाइयां बनाने में उपयोग किया जा रहा था। स्टाफ को मौके पर बुलवाकर पूछा गया कि कहां से पानी लाते हो तो एक ने कहा कि टैंकर आता है। जब सवाल किया कि कहां से टैंकर आता है कोई रसीद या फर्म का नाम तो कोई कुछ भी नहीं बता सका।

शौचालय के पास मिठाइयों का बनना देखकर वाकई पूरी फूड सेफ्टी टीम हैरत में पड़ गई। इसके साथ ही बहादुरा स्वीटस के यहां से बूंदी लडडू, शान शौकत से मूंगदाल बर्फी और सनातन धर्म मंदिर रोड स्थित मिठास से मावा बर्फी का सैंपल लिया गया। जोधपुर मिष्ठान भंडार को 15 दिन का नोटिस भी सुधार के लिए जारी किया गया है।

कलेक्टर बोले-जोधपुर मिष्ठान पर कड़ी कार्रवाई करेंगे

कलेक्टर अनुराग चौधरी भी जोधपुर मिष्ठान भंडार पर शौचालय वाली पानी सप्लाई के उपयोग की जानकारी सुनकर दंग रह गए। उन्होने कहा कि यह ग्राहकों के साथ बड़ा धोखा है, मिष्ठान भंडार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।