ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि। आने वाले सात दिनों के अंदर तीन ग्रह चंद्रमा के नजदीक जीरो डिग्री पर पहुंचेंगे। इनमें गुरु, शुक्र और शनि ग्रह शामिल हैं। जबकि मंगल ग्रह चंद्रमा के नजदीक जीरो डिग्री में पहुंच गया है। मंगल के चंद्रमा के नजदीक पहुंचने से पृथ्वी पर गर्मी बढ़ सकती है। 7 दिनों में चार ग्रहों के चंद्रमा के नजदीक पहुंचना बड़ी खगोलीय घटना मानी जाती है। यह सभी नजारे टेलीस्कोप से देखे जा सकते हैं। प्रत्येक ग्रह चंद्रमा के नजदीक 6 से 7 घंटे तक रहेगा। इन ग्रहों की स्थिति के कारण शुक्ल पक्ष भी 15 की जगह 16 दिन के होंगे। साथ ही भारत में बड़े राजनीतिक बदलाव भी देखने को मिलेंगे।

ज्योतिषाचार्य सतीश सोनी के अनुसार मंगल ग्रह मंगलवार को पृथ्वी की कक्षा में भ्रमण करता हुआ चंद्रमा के नजदीक जीरो डिग्री पर पहुंच गया है। मंगल और चंद्रमा की इस नजदीकी से पृथ्वी पर मौसम में बदलाव देखने को मिलेगा। पृथ्वी पर गर्मी और उमस बढ़ सकती है। इसके बाद 28 जनवरी तक तीन और खगोलीय घटनाएं होंगी।

इसमें 23 जनवरी को देवगुरु बृहस्पति, 24 जनवरी को शनि और 28 जनवरी को शुक्र चंद्रमा के नजदीक जीरो डिग्री पर आ जाएंगे। यह सभी ग्रह 6 से 7 घंटे तक इस स्थिति में रहेंगे। इस खगोलीय घटना को ज्योतिष की भाषा में युति कहा जाता है। चंद्रमा के नजदीक ग्रहों का आना सामान्य घटना होती है। लेकिन 9 दिनों के अंदर चार ग्रहों का एक के बाद एक करके चंद्रमा के नजदीक जीरो डिग्री पर आ रहे हैं यह दुर्लभ संयोग है।

कब कौन सा ग्रह होगा चंद्रमा के नजदीक

20 जनवरी की रात 12 बजकर 44 मिनट पर मंगल चंद्रमा के पास जीरो डिग्री पर आ गया था। उस समय मंगल की स्थिति दक्षिण दिशा में देखी गई थी।

23 जनवरी को दोपहर 2 बजकर 45 मिनट पर बृहस्पति चंद्रमा के करीब होगा। इसे पश्चिम दिशा से देखा जा सकता है।

24 जनवरी को चंद्रमा के पास शनि के आ जाने से पृथ्वी चंद्रमा और शनि तीनों एक ही लाइन में रहेंगे। यह स्थिति दोपहर 8 बजकर 8 मिनट पर बनेगी। इस दौरान शनि को पश्चिम दिशा से चंद्रमा के पास देखा जा सकेगा।

28 जनवरी को शाम 7 बजकर 28 मिनट पर शुक्र चंद्रमा के पास आ जाएगा। इसे उत्तर दिशा से चंद्रमा के पास देखा जा सकेगा। चंद्रमा के नजदीक जो ग्रह गुजरेंगे। वह बिलकुल जीरो डिग्री पर एक सीध में दिखाई देगा।

यह बनेंगे योग और देखने को मिलेंगे बदलाव

ज्योतिषाचार्य सतीश सोनी के अनुसार इन खगोलीय घटनाओं के कारण अचानक मौसम में बदलाव आएगा। दिन में गर्मी बढ़ेगी और रात में ठंड रहेगी। देश के कुछ हिस्सों में अचानक बारिश और कोहरा भी बढ़ सकता है। साथ ही चंद्रमा मंगल के साथ होने से महालक्ष्मी योग बना। वहीं बृहस्पति के साथ चंद्रमा के होने से गजकेसरी योग बनेगा। वहीं शनिदेव के साथ चंद्रमा के होने से विष योग भी बनेगा।

इन दो शुभ और एक अशुभ योग के प्रभाव से देश में बड़े राजनीतिक बदलाव देखने को मिलेंगे। इस दौरान देश की सीमाओं से जुड़े बड़े फैसले सरकार ले सकती है। वहीं इन दिनों शनि के राशि परिवर्तन से सूर्य और शनि एक राशि में आ जाएंगे तथा चंद्रमा धनु राशि में चतुर ग्रह योग भी बनाएगा। इससे देश में बदलाव की स्थिति बन सकती है। साथ ही राहु और केतु व शनि के कारण सीमा पर तनाव बढ़ सकता है।

16 दिन का रहेगा शुक्लपक्ष

माघ माह के शुक्लपक्ष इस बार 15 दिन का नहीं बल्कि 16 दिनों का रहेगा। इस पक्ष में तृतीया तिथि बढ़ जाने से ऐसी स्थिति बनेगी। ज्योतिष शास्त्र में शुक्लपक्ष के दिन बढ़ने को शुभ माना गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket