बलबीर सिंह, नईदुनिया प्रतिनिधि, PUC Certificate। परिवहन विभाग ने मध्य प्रदेश में संचालित प्रदूषण जांच केंद्रों की जांच शुरू कर दी है। मध्य प्रदेश के 487 प्रदूषण जांच केंद्रों का परिवहन विभाग ने निरीक्षण किया। जिसमें 61 केंद्रों पर अनियमिताएं मिली, जिसमें 50 के लाइसेंस निलंबित कर दिए गए, जबकि 11 के लाइसेंस निरस्त किए गए हैं। ये विभाग के नोटिस का संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए थे। ग्वालियर में नौ केंद्रों के लाइसेंस निलंबित किए गए हैं।

प्रदेश में वाहनों के प्रदूषण की जांच के लिए 487 केंद्र संचालित हैं। एनजीटी ने इनकी जांच के आदेश दिए थे। साथ ही विभाग के पास भी इनकी अनियमितता की शिकायतें आ रही थी, इसके चलते परिवहन आयुक्त ने प्रदेश के सभी आरटीओ को निर्देशित किया कि केंद्रों की जांच की जाए। इसके बाद क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी, जिला परिवहन अधिकारियों ने अलग-अलग टीमें बनाई और केंद्रों की जांच शुरू की। 61 केंद्रों पर पुरानी मशीनें मिली और लाइसेंस को रिन्यूवल नहीं कराया था।

मशीन कहां से खरीदी गई, उसके दस्तावेज भी पेश नहीं कर पाए। 61 केंद्रों पर की जा रही जांच मानकों पर खरी नहीं उतर रही थीं। 11 केंद्र संचालक विभाग के नोटिस का जवाब नहीं दे पाए, इसलिए लाइसेंस निलंबित कर दिए। 11 में से नौ ग्वालियर में संचालित थे। 50 के लाइसेंस निलंबित है। इन्हें जवाब पेश करने के लिए समय दिया है।

Posted By: vikash.pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस