आग की घटना को लेकर दिए अलग-अलग बयान

ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। ऊधमपुर-दुर्ग सुपरफास्ट एक्सप्रेस की दो बोगियों में आग लगने की घटना को लेकर चार सदस्यी कमेटी ने 20 कर्मचारियों के बयान दर्ज किए। इस आगजनी में रेलवे को दो करोड़ रुपये के नुकसान होने का अंदेशा है। वहीं करीब दो दर्जन यात्रियों का सामान भी जल गया था। कमेटी के सामने कर्मचारियों ने अलग-अलग बयान दर्ज कराए हैं। किसी ने बयान में कहा कि ट्रेन में बीड़ी सिगरेट के कारण आग लगी है तो किसी ने कहाकि है कि शार्ट सर्किट से आग लगने का अंदेशा जताया है।

ऊधमपुर-दुर्ग सुपरफास्ट एक्सप्रेस के एसी कोचों में आग लग गई थी। हालांकि यात्रियों ने किसी तरह से दूसरे कोचों में पहुंचकर अपनी जान बचाई थी। उधमपुर

दुर्ग एक्सप्रेस में नए प्रकार के एलएचबी कोच लगे थे। एक एलएचबी कोच की कीमत डेढ़ से दो करोड़ के बीच होती है। इस घटना में दो वातानुकूलित कोच

जलकर बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए। इस हिसाब से हादसे मेें दो करोड़ से अधिक के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है। हालांकि, सुपरवाइजरों की प्रारंभिक ज्वाइंट रिपोर्ट में सीएंडडब्लू विभाग ने खुद से संबंधित दस लाख रुपये का नुकसान बताया है।

इन कर्मचारियों के दर्ज हुए बयान

रेलवे द्वारा जांच करने के लिए गठित की गई कमेटी ने रविवार को टीआई गजेंद्र सिंह राठौर, ट्रेन चालक डीके त्यागी, गार्ड जयराम अहिरवार,बैगन ईटीसी हेमराज मीणा,प्वाइंटसमैन मोहम्मद रफीक, सीसीआई मुरैना कल्लूराम,धमपुर-दुर्ग एक्सप्रेस के डिप्टी सीटीआई वीके खरे, उवीरेंद्र रिछारिया, हेतमपुर स्टेशन के

पास खड़ी मालगाड़ी के गार्ड नितिन लिटोरिया, हेतमपुर स्टेशन मास्टर डीसी मीणा, एसएसई, गेट नंबर 487 के गेटमैन प्रताप सिंह, लोको इंस्पेक्टर एसके गुप्ता, आरपीएफ इंस्पेक्टर हरकेश मीणा, कैरिज बैगन एसएसई डीएस मीणा के बयान दर्ज किए गए हैं।

ट्रेनों में आगजनी रोकने चलेगा अभियान

ऊधमपुर-दुर्ग एक्सप्रेस में आगजनी की घटना के बाद विद्युत विभाग प्रिंसिपल चीफ सेकेट्री ने उत्तर

मध्य रेलवे के महाप्रबंधक को आदेश जारी किया है। इस आदेश में बताया गया है कि सभी ट्रेनों में सुरक्षा के लिए अभियान चलाया जाए। यह अभियान 15 दिन तक चलेगा।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local