Madhya Pradesh Assembly by-elections: ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि। उपचुनाव के लिए कांग्रेस ने ग्वालियर पूर्व व ग्वालियर विधानसभा व डबरा(अजा) के लिए अधिकृत उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। चुनाव आयोग ने भी प्रदेश में उपचुनाव की तारीख घोषित कर दी है।

तीनों विधानसभा क्षेत्रों में शांतिपूर्ण व निष्पक्ष चुनाव कराने की प्रशासनिक गतिविधियों ने गति पकड़ ली है। जिला प्रशासन ने होमवर्क कर लिया है। चुनाव अर्द्धसैनिक बलों की निगरानी में होना तय है। तीनों विधानसभा क्षेत्रों में चिन्हित किए गए मतदान केंद्रों की संख्या से इस बात के संकेत मिलते हैं कि ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र में प्रशासन की नजर रहेगी।

ग्वालियर पूर्व में अति संवेदनसीशल -55, संवेदनशील 128 व ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र में अति संवेदनशील 41 व संवेदनशील 122, डबरा में अतिसंवेदनशील 29 व संवेदनशील 64 मतदान हैं। एसपी अमित सांघी का कहना है कि उपचुनाव कराने के लिए पहले से अधिक अर्द्धसैनिक बलों व विशेष अधिकारियों की आवश्यकता पड़ेगी।

16 सीटें ग्वालियर अंचल में

प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। इनमें 16 सीटें ग्वालियर अंचल में हैं। संभागीय मुख्यालय होने के कारण उपचुनाव की राजनीति का केंद्र बना हुआ है। जिला प्रशासन ने आयोग की भेजी एक रिपोर्ट में जिले की तीनों विधानसभा क्षेत्रों में निर्धारित गाइड लाइन से अधिक राशि चुनाव में खर्च किए जाने की आशंका जताई है। इसके अलावा आपराधिक तत्वों पर बड़े स्तर पर कार्रवाई की जा रही है।

अवैध हथियार भी चुनाव से पहले 200 से अधिक पकड़े जा चुके हैं। हथियारों के लाइसेंस निलंबित कर शस्त्र जमा कराये जा रहे हैं। चुनाव आयोग की सबसे अधिक नजर ग्वालियर-अंचल पर रहेगी। भाजपा ने उप कार्यालय के रूप में प्रदेश का हेडक्वार्टर शहर के पांच मंजिला होटल को बना दिया है। कांग्रेस का वार रूम भी सिटी सेंटर क्षेत्र के एक होटल से संचालित हो रहा है।

विरोध प्रदर्शन का केंद्र बना ग्वालियर

भाजपा के महासदस्यता अभियान के पहले दिन ही कांग्रेस ने राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया के नगर आगमन पर प्रदर्शन किया था। इसके बाद कमल नाथ के आगमन पर भारतीय युवा मोर्चा ने काले झंडे दिखाने का प्रयास किया। आरोप-प्रत्यारोप का दौर पिछले दो महीने से जारी है। दोनों दलों के प्रदेश के प्रमुख नेता जिले में कैंप कर चुके हैं। अब राष्ट्रीय नेताओं के भी चुनाव-प्रचार में आने की संभावना जताई जा रही है।

ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र में पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल का मुकाबला कांग्रेस के सतीश सिकरवार से है। ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र में ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के सामने कांग्रेस से सुनील शर्मा हैं। डबरा(अजा) से महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी का कांग्रेस के सुरेश राजे से मुकाबला होगा। दोनों दलों के प्रत्याशी आमने-सामने आ जाने के बाद विधानसभा क्षेत्र की प्रकृति के अनुसार सुरक्षा इंतजामों को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

पिछले चुनाव की तुलना में अधिक अर्द्धसैनिक बल की तैनाती होगी

एसपी अमित सांघी ने बताया कि तीनों विधानसभा क्षेत्रों में से क्रिटिकल व सामान्य मतदान केंद्रों को चिन्हित कर चुनाव आयोग की मंजूरी के लिए भेज दिया गया है। मंजूरी के बाद आयोग की गाइड लाइन के अनुसार तय होगा कि क्रिटिकल व सामान्य मतदान केंद्र पर कितना बल तैनात किया जाना है। इस मंजूरी के बाद बल की आवश्यकता के संबंध में प्रस्ताव पीएचक्यू के पास भेजा जाएगा।

ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र

कुल मतदान केंद्र -448

अति संवेदनशील -55

संवेदनशील मतदान केंद्र- 128

ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र

कुल मतदान केंद्र - 409

अति सवंदेनशील -41

संवेदनशील मतदान केंद्र- 122

डबरा (अजा) विधानसभा क्षेत्र

कुल मतदान केंद्र -336

अति संवेदनशील मतदान केंद्र -29

संवेदनशील मतदान केंद्र -64

(जिला निर्वाचन अधिकारी चुनाव आयोग के पास मंजूरी के लिए प्रस्ताव भेजा है)

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020