ग्वालियर। राजस्थान से आने वाली गर्म हवाओं ने गुरुवार को बेहाल किया। दिन चढ़ते ही लू के थपेड़ों ने शहरवासियों को परेशान कर दिया। हीटिंग अधिक होने से शाम को आसमान में धुंध छा गई, लेकिन गर्मी से राहत नहीं मिली। रात को भी गर्म हवाएं चलीं। मानसून की बेरुखी के चलते आधा जुलाई सूखा निकलने की उम्मीद है। अधिकतम तापमान सामान्य से 5.9 डिसे अधिक 42.7 डिसे और न्यूनतम तापमान 2 डिग्री अधिक 28.9 डिसे दर्ज किया गया।

- मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी में एक सिस्टम बन रहा है। बढ़ते तापमान की वजह से बंगाल की खाड़ी में नमी इकट्ठा हो रही है। 13 जुलाई के बाद यह सिस्टम मूव करेगा। 15 जुलाई से ग्वालियर चंबल संभाग में झमाझम बारिश की उम्मीद है।

-उत्तर पश्चिमी हवाएं 13 जुलाई के बाद कमजोर पड़ सकती हैं। इन हवाओं के कमजोर होने से दक्षिण व पूर्व से हवाओं का आना शुरू हो जाएगा। ये हवाएं ग्वालियर-चंबल संभाग में मानसून लेकर आएंगी।

12 साल बाद बने ऐसे हालात

मानसून के लिए प्रतिकूल हालात बन गए हैं। उत्तर पश्चिम से आने वाली हवाओं की वजह से मानसून लौट रहा और तापमान में लगातार वृद्धि हो रही है। 2002 में ऐसे हालात बने थे और पूरा जुलाई सूखा निकल गया था। अगस्त में बारिश हुई थी। सामान्य से कम बारिश होने से प्रदेश में सूखे का सामना करना पड़ा था। अब 12 साल बाद वैसे ही हालात बन गए हैं।

एक्सपर्ट व्यू

राजस्थान से आने वाली हवाओं की वजह से तापमान में वृद्धि हो रही है। ये हवाएं मानसून को रोकती हैं, क्योंकि दक्षिण व पूर्व की हवाएं नहीं चल पा रही हैं, जिससे मानसून आगे नहीं बढ़ रहा है।

- उमा शंकर चौकसे, मौसम केन्द्र प्रभारी

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close