दीपक सविता, ग्वालियर नईदुनिया। नगर निगम ने पुराने वाहनाें के मेंटेनेंस पर ध्यान नहीं दिया ताे वह कंडम हाे गए। अब तक इकाेग्रीन के वाहनाें से काम चल रहा था। कंपनी के काम छाेड़कर जाने के बाद स्वच्छता सर्वेक्षण में पिछड़ने का खतरा मंडराने लगा है। एेसे में नगर निगम अपनी रैकिंग काे बचाने के लिए वाहन खरीदने पर करीब 34 करोड़ रुपये खर्च करने की तैयारी कर रहा है।

स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 प्रारंभ होने जा रहा है। पिछले वर्ष 2020 के स्वच्छता सर्वेक्षण में ग्वालियर का देश भर के 4200 से अधिक शहरों में 13 वां स्थान था। इस स्थान को बनाए रखने के लिए निगम को इस साल काफी मशक्कत करनी पड़ेगी। क्योंकि डोर टू डोर कचरा कलेक्शन एवं कचरे का निस्तारण करने वाली कंपनी ईकोग्रीन काम छोड़कर जा चुकी है। इस 13 वें स्थान को बनाए रखने के लिए नगर निगम एक माह के अंदर 34 करोड़ 35 लाख स्र्पये के नए वाहन खरीदने जा रहा है। क्योंकि निगम के पास वर्तमान में जो वाहन है, उनकी हालत काफी दयनीय हो चुकी है।

ये वाहन खरीदे जाएंगे-

-5 जेसीबी जिसमें प्रत्येक की कीमत करीब 20 लाख स्र्पये है

-5 डंपर प्रत्येक की कीमत 19 लाख स्र्पये है

-60 (टिपर) डोर टू डोर कचरा कलेक्शन वाहन प्रत्येक की कीमत 7 लाख स्र्पये

-3 रोड़ सीपर मशीन प्रत्येक की कीमत 60 लाख स्र्पये

-3 वाटर फोगिंग मशीन प्रत्येक की कीमत 40 लाख स्र्पये है

किसी ने नहीं लिया था टेंडर

नगर निगम ने कुछ दिन पहले जेसीबी और डंपर के टेंडर भी जारी किए थे, लेकिन पहली बार में काेई कंपनी आगे नहीं आई थी। जल्द ही दूसरी बार टेंडर जारी किए जाएंगे। वहीं करीब 15 दिन के अंदर नवीन डोर टू डोर कचरा कलेक्शन वाहन आ जाएंगे। साथ ही रोड सीपर एवं वाटर फोगिंग मशीन भी आ जाएगी। जिनके जल्द ही टेंडर जारी होने जा रहे हैं।

सड़कों और पेड़ो पर धूलः शहर की सड़कों और पेड़ों पर धूल जमी हुई है। इसके कारण ग्वालियर उन शहरों में शामिल है, जहां वायु प्रदूषण सबसे उच्च स्तर पर पहुंच चुका है। रोड़ सीपर मशीन से शहर की सड़कों पर जमा धूल को साफ किया जा सकेगा। साथ ही वाटर फोगिंग मशीन से छिड़काव कर पेड़ाें पर जमीं धूल एवं सड़कों की सफाई हाे सकेगी।

स्वच्छता अभियान में वाहनों की अहम भूमिकाः नगर निगम के पास वर्तमान में अधिकांश वाहन खस्ताहाल हैं, इसके कारण शहर की सड़कों पर इस समय कचरे के ढेर लगे नजर आ रहे हैं। क्योंकि इस कचरे काे उठाने के लिए निगम के पास अच्छे वाहन ही नहीं है। इन वाहनों के आ जाने से शहर की सड़कों से जल्द ही कचरा साफ हो सकेगा। स्वच्छता अभियान में भी इन वाहनों की ज्यादा जरूरत है।

वर्जन-

निगम जल्द ही वाहनों की खरीद करने जा रहा है। इन वाहनों के आ जाने से स्वच्छता अभियान में मदद मिलेगी। साथ ही शहर भी स्वच्छ रहेगा।

संदीप माकिन, निगमायुक्त

Posted By: vikash.pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस