ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। शहर में साफ सफाई का दावा करने के बाद भी कचरा कलेक्शन में लापरवाही की जा रही है। शहर में प्रतिदिन औसतन 10 वार्डों में कचरा कलेक्शन वाहन नहीं पहुंच रहे हैं। नगर निगम के जिम्मेदार अफसर इसके पीछे वाहन खराब होने का बहाना बनाते हैं, लेकिन असल में वाहन सही होने पर भी कचरा कलेक्शन के लिए नहीं पहुंचते हैं। नगर निगम के पास भी इन वाहनों की निगरानी की सटीक व्यवस्था नहीं होने के कारण अधिकारी भी मजबूरन कार्रवाई नहीं कर पाते हैं।

रविवार को शहर के वार्ड क्रमांक 14, 15, 16, 38 व 49 सहित कई वार्डों में डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन वाहन नहीं पहुंचे। इससे लोग परेशान होते हुए नजर आए और इलाकों में कचरा ठिए दिखाई दिए। वहीं निगम के जिम्मेदारों का कहना है कि वाहन खराब होने से कई वार्डों में कचरा वाहन नहीं पहुंचा होगा। रविवार को वार्ड क्रमांक 14 के सेवानगर, रमटापुरा, वार्ड 38 के ढोली बुला का पुल, नवग्रह कालोनी, शंकर कालोनी, वार्ड क्रमांक 49 के अंतर्गत समाधिया कालोनी, श्याम विहार कालोनी सहित कई जगहों पर कचरा वाहन नहीं पहुंचे। इन गली-मोहल्ले में वाहन नहीं आने से लोगों ने इधर-उधर कचरा डाला और काफी संख्या में कचरा ठिए पर भी कचरा फेंका गया। अपर आयुक्त अतेंद्र गुर्जर ने बताया कि कचरा वाहन खराब होने से कई वार्डों में कचरा वाहन नहीं पहुंचे होंगे, लेकिन असल में नगर निगम के पास में इन वाहनों की मानिटरिंग की व्यवस्था नहीं है। हालांकि निगम की ओर से वाहनों को ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) डिवाइसों से लैस किया गया है, लेकिन ये डिवाइस भी पूरी तरीके से निगरानी में सक्षम नहीं हैं। इन डिवाइसों पर सिर्फ यह नजर आता है कि कितने वाहनों का इंजन चालू है और कितने वाहनों का इंजन बंद है। इसके अलावा वाहनों का इंजन कितनी देर पहले बंद किया गया है।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close