News Hospital in Gwalior: ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। दो महीने से तैयार हजार बिस्तर अस्पताल को उद्घाटन के लिए अभी कुछ दिन और इंतजार करना पड़ेगा। 25जनवरी को राजमाता विजयाराजे सिंधिया के जन्मशताब्दी अवसर पर हजार बिस्तर अस्पताल के उद्घाटन को लेकर चल रही चर्चाओं पर विराम लग चुका है। अब हजार बिस्तर अस्पताल का उद्घाटन 15 फरवरी के बाद होगा। फरवरी में हजार बिस्तर अस्पताल के उद्घटन में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मौजूद रहेंगे। असल में केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिधिंया ने हाल ही में ग्वालियर प्रवास के दौरान कलेक्ट्रेट में बैठक के दौरान हजार बिस्तर अस्पताल की खामियों काे लेकर नाराजगी जाहिर करते हुए साफ कर दिया था कि जबतक हजार बिस्तर पूरी तरह से मरीजों के लिए तैयार नहीं होता तबतक उसका उद्घाटन नहीं होगा।

पूरी तरह से व्यवस्थित नहीं अस्पताल

1-हजार बिस्तर अस्पताल में दवा स्टोर तो संचालित करा दिया, पर सभी बीमारियों की दवाएं उपलब्ध नहीं कराई जा सकीं।

2-हजार बिस्तर में भर्ती मरीजाें के लिए पैथालोजी की सुविधा पूरी तरह से तैयार नहीं हो सकी।

3-अस्पताल की साफ सफाई के लिए स्टाफ न होने से गंदगी पसर चुकी है।

4-अस्पताल में नर्सिंग स्टाफ की कमी है,जिससे मरीजों की देखभाल ठीक से नहीं हो पा रही है।

5-जेएएच व हजार बिस्तर अस्पताल के परिसर को एक नहीं किया जा सका।

6-हजार बिस्तर अस्पताल परिसर में मोच्र्युरी शिफ्ट नहीं की गई।

दो अस्पतालों के बीच की सड़क बनी परेशानी

हजार बिस्तर और जेएएच के बीच से गुजरने वाली सड़क परेशानी का कारण बनी हुई है। अस्पताल के बीच से निकली सड़क के कारण दोंनो के परिसर एक नहीं हो पा रहे हैं। जिससे मरीजों को जेएएच से हजार बिस्तर अस्पताल तक पहुंचने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। माधव डिस्पेंसरी की इमरजेंसी में पहुंचने वाले मरीज को भर्ती होने के लिए 800 मीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। यदि कोई मरीज सीधे हजार बिस्तर अस्पताल पहुंचता है तो उसे कैजुअल्टी का पर्चा बनवाने के लिए माधव डिस्पेंसरी पहुंचना होता है।

पूछताछ केन्द्र तक नहीं

हजार बिस्तर अस्पताल का 8 मंजिला भवन भूल भुलैया की तरह है। जिसमें तीन ब्लाक ए,बी और सी बने हुए हैं। किस विभाग का डिपार्टमेंट कहां पर मिलेगा इसकी जानकारी देने के लिए पूछताछ केन्द्र की आवश्यकता है। लेकिन हजार बिस्तर अस्पताल में न तो पूछताछ केंन्द्र बनाया गया और न हीं ठीक तरह से साइनेज लगाए गए जिससे मरीज या अटेंडेंट उसके सहारे अपने गंतव्य तक पहुंच सकें।

इनका कहना है

भोपाल से उद्घाटन को लेकर अभी कोई भी अधिकारिक सूचना नहीं मिली है। यदि निर्देश मिलते हैं तो अस्पताल पूरी तरह से तैयार है। उद्घाटन किया जा सकता है।

दीपक सिंह, संभागायुक्त

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close