- जिला एवं सत्र न्यायालय ने बनाया ड्यूटी रोस्टर

- 14 अप्रैल तक लागू रहेगी व्यवस्था

ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिला एवं सत्र न्यायालय ने जजों का ड्यूटी रोस्टर बना दिया है। प्रतिदिन एक अपर सत्र न्यायाधीश व एक न्यायिक मजिस्ट्रेट एक घंटे बैठेंगे और जमानत आवेदनों की सुनवाई करेंगे। अन्य किसी तरह के मामले की सुनवाई नहीं की जाएगी। अगर कोई पक्षकार अर्जेंट में अपने मामले की सुनवाई चाहता है तो उसके लिए पहले जिला न्यायाधीश को ई-मेल पर आवेदन भेजना होगा। आवेदन पर जिला न्यायाधीश विचार करके फैसला करेंगे कि मामला सुना जाए या नहीं। सुनने योग्य होगा तो फाइल न्यायाधीश के सामने पहुंच जाएगी।

कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए देश में 14 अप्रैल तक लॉकडाउन किया गया है। इस आदेश के पालन में हाईकोर्ट ने भी न्यायालयों में लॉकडाउन कर दिया। जिसके चलते न्यायालय बंद हो गए, लेकिन पुलिस ने आरोपितों को पकड़ना बंद नहीं किया। जिससे जेल में आरोपितों की संख्या बढ़ रही थी। जमानत आवेदनों पर सुनवाई न थमे, उसको लेकर व्यवस्था की है। वे दोपहर 1 बजे से 2 बजे तक कोर्ट में बैठेंगे। शेष ट्रायल के मामलों की जमानत सुनवाई के लिए अपर सत्र न्यायाधीश की ड्यूटी लगाई है, जबिक छोटे मामलों की सुनवाई न्यायिक मजिस्ट्रेट करेंगे। इसके अलावा पुलिस अपनी पेशियां भी पेश कर सकती है। अपर सत्र न्यायाधीश कोर्ट रूम नंबर 60 व न्यायिक मजिस्ट्रेट 68 नंबर रूम में बैठेंगे।

कोर्ट मैनेजर को भेज सकते हैं सूचना

-अर्जेंट मामले की सुनवाई सूचना अधिवक्ता व पक्षकार कोर्ट मैनेजर शैफाली गोमे को ई-मेल पर ़इजरीकचनै.र्यसीञयसचैन.र्बस या फिर कोर्ट के प्रशासनिक अधिकारी राजेन्द्र झा को ई- मेल ़इचिलीहगचिलरच578ञयसचैन.र्बस पर सूचना भेज सकते हैं।

-1 से 14 अप्रैल के बीच जिन पक्षकारों के केस लिस्ट थे, उन्हें नहीं सुना जाएगा। कोर्ट खुलने के बाद अधिवक्ता व पक्षकार को नई तारीख की सूचना दी जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket