ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि

भारत में 30 मार्च से कोरोना वायरस का कहर कम होना प्रारंभ हो जाएगा। जबकि 4 मई को पूरी तरह से समाप्त हो जाएगा। ज्योतिषाचार्य एचसी जैन के अनुसार 16 दिसंबर 2019 को सूर्य केतु के मूल नक्षत्र धनु राशि में आया। गुरु 4 नवंबर केतु के मूल नक्षत्र धनु राशि में, बुध 25 दिसम्बर केतु के मूल नक्षत्र में व शुक्र 21 नवम्बर को केतु के नक्षत्र में आया। इस प्रकार सूर्य, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र और चंद्र भी लगातार केतु के नक्षत्र में आते जाते रहे। लगभग सभी ग्रह केतु के मूल नक्षत्र और शनि ग्रह की राशि मकर के बीच रहे। इस दौरान उन पर केतु की नजर उन पर रही। इसके चलते 16 दिसंबर से दुनिया में कोरोना का कहर प्रारंभ हो गया। लेकिन अब सूर्य 14 मार्च 2020 को मीन राशि में आ गया। मंगल 22 मार्च को मकर में आ गया। यह 1 अप्रैल को शनि के आगे अंशात्मक होगा। बुध कुंभ में और शुक्र मेष राशि से निकल चुका है। 30 मार्च को गुरु धनु राशि व केतु का साथ छोड़ देगा। 31 मार्च से कोरोना का कहर कम होना प्रारंभ हो जाएगा। 4 मई को मंगल, सूर्य, बुध, शुक्र ग्रह केतु व शनि की पक़ड से बहुत दूर निकल जाएंगे। इसके बाद कोरोना का कहर भारत पर पूरी तरह से खत्म हो जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network