ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना कंट्रोल के मामले में प्रदेश के पांच महानगरों में ग्वालियर चंबल अंचल सबसे बेहतर स्थिति में है। सबसे कम पॉजिटिव केस मिलने के साथ ही मरीजों का रिकवरी रेट भी 30 प्रतिशत है। अंचल में अब तक केवल दो मौतें हुई हैं। इतना ही नहीं 4 मरीजों को छोड़कर किसी को वेंटिलेटर तो दूर ऑक्सीजन तक की जरूरत नहीं पड़ी है। वर्तमान में भी एक्टिव मरीजों में से केवल 11 में कोरोना के लक्षण हैं, बाकी पूरी तरह ठीक हैं। उन्हें ऑब्जर्वेशन में रखा गया है।

ग्वालियर चंबल अंचल में अब तक 248 पॉजिटिव केस मिले हैं, जिसमें से 87 मरीज स्वस्थ्य हो चुके हैं। इन मरीजों में से केवल चार मरीजों को अब तक ऑक्सीजन की जरूरत पड़ी है। जिसमें एक ग्वालियर के 86 वर्षीय बुजुर्ग, भिंड के दो एवं श्योपुर की एक छात्रा शामिल है। एक्सपर्ट की मानें तो अंचल में जिस वायरस से लोग संक्रमित हो रहे हैं, वह कम स्टैंथ का है। इसी वजह से वह मरीज को ना तो अधिक संक्रमित कर पा रहा है ना ही दूसरे में ट्रांसफर हो रहा है। इसलिए कई बार देखने में आया है कि दो लोग लगातार साथ रहे हों, लेकिन एक पॉजिटिव जबकि दूसरे की रिपोर्ट निगेटिव आई है।

86 साल के बुजुर्ग हो चुके हैं स्वस्थ्यः

केस-1

ग्वालियर सिल्वर ऐस्टेट निवासी 86 वर्षीय बुजुर्ग की दो सर्जरी हुई थीं। दिल्ली से लौटने के बाद जब जांच हुई तो वह कोरोना संक्रमित पाए गए। डॉक्टरों ने सुपर स्पेशियलिटी में उनका उपचार किया, केवल एक बार ऑक्सीजन लगाने की स्थिति बनी। वह भी अब स्वस्थ्य होकर अपने घर पहुंच चुके हैं।

केस-2

मुरैना में 70 वर्षीय शफी मोहम्मद कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। उनका भी अस्पताल में इलाज चला, लेकिन ऑक्सीजन की जरूरत नहीं पड़ी। वह भी स्वस्थ्य होकर अब अपने घर पहुंच चुके हैं। उनका कहना है कि पहले तो कोरोना का नाम सुनकर काफी डर गए थे। मगर डॉक्टरों ने सामान्य उपचार से ही उन्हें ठीक कर दिया।

बच्चे भी हो चुके हैं ठीकः

केस-1

दुबई से लौटे युवक के परिवार में डेढ़ वर्षीय बेटी भी कोरोना से संक्रमित हुई। हालांकि उसमें भी कोरोना के कोई गंभीर लक्षण नहीं थे। इलाज के बाद अब वह स्वस्थ्य होकर घर जा चुकी है।

केस-2

भिंड में 2.5 साल का बच्चा कोरोना से संक्रमित पाया गया था। बच्चे के माता-पिता भी संक्रमित पाए गए हैं। बच्चे की हालत ठीक बताई जा रही है।

-----------

अंचल की स्थितिः-

जिला पॉजिटिव केस स्वस्थ्य केस ऑक्सीजन/वेंटिलेटर

मुरैना 69 26 0

ग्वालियर 104 41 0

भिंड 48 7 2 को ऑक्सीजन

अशोक नगर 6 1 0

शिवपुरी 7 3 0

दतिया 6 4 0

गुना 3 1 0

श्योपुर 5 4 एक को ऑक्सीजन

प्रदेश के पॉच टॉप जिलों की स्थितिः-

जिला पॉजिटिव केस स्वस्थ्य हुए मरीज मृत्यु

इंदौर 2850 1280 109

भोपाल 1153 708 40

उज्जैन 504 218 51

जबलपुर 194 115 9

ग्वालियर 104 41 2

(नोटः-ग्वालियर को छोड़कर अन्य जिलों के आंकड़े 22 मई तक)

एक्सपर्ट व्यूः

प्रदेश के दूसरे जिलों में रिपोर्ट 2 से 3 दिन में आ रही है। इसलिए मरीजों को उपचार मिलने में भी देरी हो रही है। जबकि हमारे यहां रिपोर्ट 18 से 24 घंटे में आ रही है, जिससे मरीजों को समय रहते उपचार मिल रहा है। इसके अलावा हमारे यहां जो वायरस है वह इंदौर-भोपाल के मुकाबले कम स्टैंथ का है। जिससे यदि कोई मरीज पॉजिटिव है भी तो उससे संक्रमण दूसरे को नहीं फैल पा रहा है।

डॉ. वैभव मिश्रा, प्रभारी वायरोलॉजी लैब जीआर मेडिकल कॉलेज

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना