ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। महापौर डा. शोभा सिकरवार ने बुधवार को मेयर इन काउंसिल (एमआइसी) की घोषणा की। इसमें पांच सदस्यों को शामिल किया गया है। एमआइसी में फिलहाल कांग्रेस के सिर्फ अवधेश कौरव को स्थान मिला है, जबकि बसपा के इकलौते पार्षद सुरेश सिंह सोलंकी के अलावा सभापति चुनाव में साथ देने वाले तीन निर्दलीय पार्षदों नाथूराम ठेकेदार, सुनीता कुशवाह और आशा चौहान को रिटर्न गिफ्ट दिया है। बुधवार को पत्रकार वार्ता में महापौर ने कहा कि जल्द ही अन्य पांच सदस्यों के नाम की भी घोषणा की जाएगी।

महापौर ने एमआइसी में वार्ड 57 के पार्षद अवधेश कौरव को स्वच्छता एवं ठोस अपशिष्ट प्रबंधन विभाग, वार्ड 61 के पार्षद नाथूराम ठेकेदार को सामान्य प्रशासन विभाग, वार्ड 23 के पार्षद सुरेश सिंह सोलंकी को राजस्व विभाग, वार्ड 33 की पार्षद सुनीता कुशवाह को लोक निर्माण एवं उद्यान विभाग तथा वार्ड दो की पार्षद आशा चौहान को जलकार्य तथा सीवरेज विभाग की जिम्मेदारी सौंपी है। पत्रकारों से चर्चा के दौरान महापौर ने कहा कि रक्षाबंधन के त्यौहार के बाद सभी एमआइसी सदस्य कामकाज संभालेंगे। इसके अलावा अफसरों के साथ बैठक कर शहर विकास की चर्चा की जाएगी।

-नईदुनिया ने पहले ही किया था खुलासा-

नईदुनिया ने गत सात अगस्त के अंक में खुलासा किया था कि शुरूआत में पांच सदस्यों के साथ एमआइसी का गठन किया जाएगा। इसमें कांग्रेस का एक और चार निर्दलीय पार्षद शामिल होने का उल्लेख भी किया गया था। हालांकि शुरूआत में वार्ड छह के पार्षद दीपक मांझी को भी एमआइसी में शामिल करने की चर्चा चल रही थी, लेकिन राजनैतिक संतुलन को देखते हुए दीपक मांझी के बजाय सुरेश सोलंकी को एमआइसी में जगह दी गई है। संभावना जताई जा रही है कि एमआइसी के विस्तार में तीन अन्य निर्दलीयों में से एक को स्थान मिल सकता है।

-प्रयासों में जुटे कांग्रेसी पार्षद-

शुरूआती पांच सदस्यों में से सिर्फ एक पार्षद को शामिल करने से अब कांग्रेसी पार्षदों में हलचल मच गई है। इसका कारण यह है कि सभापति चुनाव के लिए की गई जोड़तोड़ के दौरान छह निर्दलीय व बसपा पार्षद ने कांग्रेस का ही साथ दिया था। ऐसे में उनसे किए गए वादे पूरे करने की कवायद में कहीं कांग्रेस पार्षदों का पत्ता कट नहीं जाए। इसको लेकर अब कांग्रेस के बाकी पार्षद भी इस कवायद में हैं, उन्हें बाकी के पांच नामों में जगह मिल जाए।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close