- स्कीम में गड़बड़ी की वजह से तो नहीं हुआ, इसकी जांच की जा रही

ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जीवाजी विश्वविद्यालय ने नई शिक्षा नीति के तहत स्नातक प्रथम वर्ष का रिजल्ट तैयार कर लिया। घोषित करने से पहले इस रिजल्ट की जांच की गई तो 43 फीसद विद्यार्थी ही पास थे। बड़ी संख्या में विद्यार्थियों की एटीकेटी थी। एटीकेटी का आंकड़ा काफी बड़ा था। अधिकारियों को शक है कि कहीं परीक्षा की स्कीम की वजह से तो ऐसा नहीं हुआ है। अब स्कीम की जांच शुरू कर दी है। तकनीकी कमी का पता किया जा रहा है। इस पूरे मुद्दे पर गुरुवार को उच्च शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से बैठक भी है। जिसमें समस्याओं को बताया जाएगा।

इस बार स्नातक प्रथम वर्ष की परीक्षा नई शिक्षा नीति के तहत कराई गई है। परीक्षा की स्कीम तैयार नहीं होने की वजह से परीक्षा लेट हो गई थी। अगस्त में परीक्षा होने के बाद कापियों का मूल्यांकन कराया गया। राज्यपाल ने 30 सितंबर तक सभी रिजल्ट घोषित करने के निर्देश दिए है। इसके चलते जेयू ने बीकाम प्रथम वर्ष का रिजल्ट तैयार कराया। रिजल्ट बनाने के लिए कंपनी को दिया तो स्कीम में तकनीकी दिक्कत आ गई। स्कीम की जांच की गई। कमियों को दूर कर रिजल्ट तैयार कराया। कंपनी ने बुधवार को रिजल्ट बनाकर जेयू को दे दिया था, लेकिन रिजल्ट में 43 फीसद विद्यार्थी ही पास हैं। एटीकेटी व फेल हैं। रिजल्ट काफी खराब रहा है। इस वजह से घोषणा रोक दी। स्कीम में तकनीकी दिक्कत की वजह से विद्यार्थियों की एटीकेटी नहीं अाई, इसकी जांच की जा रही है। जेयू उच्च शिक्षा विभाग से इस पर मार्गदर्शन लेगा।

यह आ सकती हैं समस्या

-बीकाम, बीए व बीएससी व बीएससी होम साइंस प्रथम वर्ष की परीक्षा नई शिक्षा नीति के तहत हुई है। सबसे ज्यादा बीए व बीएससी में विद्यार्थी हैं। यदि बीकाम में विद्यार्थियों की एटीकेटी अधिक है तो बीएससी में संख्या अधिक हो सकती है। इससे विद्यार्थियों के अांदोलन हो सकते हैं। शिकायतें भी बढ़ेगी। विद्यार्थी सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

- रिजल्ट में कोई विवाद की स्थिति न बने और विद्यार्थी रिजल्ट को चुनौती न दे पाए। इसको लेकर पूरी जांच की जा रही है। ए, बी, सी, डी ग्रेडिंग की जाएगी।

इनका कहना है

- रिजल्ट में एटीकेटी अधिक थी। इस वजह से घोषणा नहीं की है। स्कीम की जांच की जा रही है। साथ ही उच्च शिक्षा विभाग के साथ बैठक है। यहां से मार्गदर्शन मिलने के बाद रिजल्ट घोषणा पर फैसला लिया जाएगा।

डा एके शर्मा, परीक्षा नियंत्रक जेयू

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close