-यात्रियों की सुरक्षा को लेकर लगाए जा रहे हैं ये डिवाइस

-कंंट्रोल कमांड सेंटर से हो सकेगी निगरानी

ग्वालियर, (नईदुनिया प्रतिनिधि)। यात्री व स्कूल बसों में पैनिक बटन व व्हीकल लोकेशन ट्रेकिंग डिवाइस (वीएलटीडी) लगना शुरू हो गए हैं। चार कंपनियों ने इन डिवाइस को कंपू स्थित आरटीओ कार्यालय के पास लगाना शुरू किया है। 15 वाहनों में इन डिवाइस को लगाया जा चुका है। कंपनियों ने एक पैनिक बटन की कीमत 300 रुपये रखी है, जबकि वीएलटीडी 12 हजार रुपये में लग रहा है। बस आपरेटरों को चालीस सीटर बस में करीब 15 पैनिक बटन लगाने होंगे। यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए यह डिवाइस लगाए जा रहे हैं।

परिवहन विभाग ने करीब 16 करोड़ की लागत से भोपाल में कंट्रोल कमांड सेंटर बनाया है। इस कंट्रोल कमांड सेंटर से यात्री व स्कूल बसों की निगरानी की जाना है। यात्री या स्कूल बस में पैनिक बटन दबने पर इसकी जानकारी कमांड सेंटर पहुंचेगी। सेंटर में अलर्ट आने के बाद वाहन की लोकेशन तत्काल पुलिस को दी जाएगी। जिससे पुलिस आसानी से पहुंच सके। साथ ही वाहन की गति, मार्ग आदि पर निगरानी रखी जा सकेगी। इन दोनों डिवाइस को लगाने के बाद वाहन मालिक को कंट्रोल कमांड सेंटर में रजिस्टर्ड कराना होगा। मानकों के अनुसार दोनों डिवाइस लग सकें, उसको लेकर चार कंपनियां अधिकृत की है। नौ कंपनियों के दस्तावेजों की जांच की जा रही है। उन्हें भी अधिकृत किया जाएगा। परिवहन विभाग ने एक्यूट कम्युनिकेशन सर्विस प्राइवेट लिमिटेड, आरडीएम इंटरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड, जीआरएल इंजीनियरिंग प्राइवेट लिमिटेड, इकोगस इम्पेक्स प्राइवेट लिमिटेड को डिवाइस लगाने के लिए अधिकृत किया है। परिवहन विभाग ने पहले यात्री वाहनों में इन डिवाइस को अनिवार्य किया था, लेकिन भोपाल में हुई घटना के बाद स्कूल बसों में भी अनिवार्य किया है। यदि ये दोनों डिवाइस वाहन में नहीं लगा है तो वाहन की फिटनेस नहीं होगी।

प्रदेश में 18 लाख से अधिक वाहनों में लगने हैं डिवाइसः

-परिवहन विभाग ने एक अगस्त से वीएलटीडी व पैनिक बटन को अनिवार्य कर दिया है। ये डिवाइस नहीं होते हैं तो वाहन पर कार्रवाई जाएगी। फिटनेस भी नहीं दी जाएगी। दिसंबर 2018 के पहले रजिस्टर्ड वाहनों में इन्हें लगाया जाना है। प्रदेश में करीब 18 लाख वाहन दिसंबर 2018 के पहले रजिस्टर्ड हुए थे।

-निर्भया फंड के तहत केंद्र शासन से विभाग को फंड मिला है। राज्य शासन ने भी फंड दिया है, जिससे कंट्रोल कमांड सेंटर बना है।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close