ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। नगर निगम में पांच लाख रुपये की घूस लेते हुए जिस कार में सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा पकड़े गए थे। उसे उन्होंने एक माह पहले ही खरीदी है। कार को उन्होंने अपने किसी रिश्तेदार मनोज राजपूत के नाम से खरीदा है। साथ ही इस कार को उन्होंने अनुबंधित कर नगर निगम में अटैच करा दिया था। इसके बाद वे इस कार का स्वयं उपयोग कर रहे थे। कार की कीमत 13 लाख 26 हजार रुपये है। कार को हैंडओवर करने के लिए ईओडब्ल्यू ने नगर निगम को पत्र लिखकर अनुबंधित करने वाले व्यक्ति की जानकारी मांगी है।

सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा महंगी कारों मंे घूमने के शौकीन हैं, लेकिन काली कमाई को छुपाने के लिए उन्होंने अपने रिश्तेदारों के नाम से संपत्ति खरीदी है। प्रदीप वर्मा रिश्वत लेते हुए एमपी07 सीएच 7973 नंबर की मारूति कंपनी की एक्सएल 6 अल्फा माडल की कार में पकड़े गए थे। वैसे सामान्यता कार की कीमत 11 लाख के करीब है, लेकिन प्रदीप वर्मा ने टाप माडल की कार खरीदी है। जिसकी कीमत 13 लाख 26 हजार रुपये है। इस कार को उन्होंने नगर निगम में अनुबंधित करा दिया था। इसके बाद वे स्वयं इसका उपयोग कर रहे थे। आरटीओ में यह कार मनोज राजपूत के नाम से रजिस्टर्ड है। इसके मालिक का पता 599 करूणा इंकलेव सिटी सेंटर लिखा हुआ है।

यह मांगी जानकारीः ईओडब्ल्यू ने पत्र लिखकर नगर निगम से जानकारी मांगी है कि एमपी07 सीएच 7973 कार किस अधिकारी को आवंटित की गई है। वाहन के अनुबंध दस्तावेज, लाग बुक सहित वाहन प्राप्त करने के आदेश के दस्तावेज तत्काल भेजे जाएं।

फूलबाग पर परमिशन में मिली है कारः प्रदीप वर्मा जिस कार में रिश्वत लेते हुए पकड़े गए हैं वह एक माह पहले ही खरीदी गई है। यह कार फूलबाग पर एक भूखंड पर निर्माण की अनुमति के बदले शहर के प्रसिद्ध कारोबारी ने दिलाई है। इस कारोबारी के पास वाहनों की एजेंसियां हैं।

Posted By: anil.tomar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस