Property in Gwalior : ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना के संक्रमण के दौर में अपने घर का सपना देखने वालों के लिए खबर अच्छी नहीं है। बुधवार यानि एक जुलाई से नई कलेक्टर गाइड लाइन लागू कर दी गई है जिसमें जमीन के रेट तो नहीं बढ़ाए गए हैं लेकिन पूर्व से निर्धारित आरसीसी निर्माण दरों में कोई कटौती नहीं की गई है। जमीन के लिए पहले वाली गाइड लाइन ही लागू होगी। आरसीसी निर्माण दर 8000 से बढ़ाकर शासन ने जो 12000 रुपये प्रति वर्ग मीटर दर की थीं वह भी एक जुलाई से लागू हो गई हैं। अब मकान और फ्लैट खरीदना डेढ़ गुना महंगा होगा जो सीधे आपकी जेब पर असर करेगा। वहीं जो 81 नई लोकेशनों को कलेक्टर गाइड लाइन में शामिल किया गया था उनके आसपास की दरें ही लागू होंगी। आरसीसी निर्माण लागत को कम करने को लेकर अलग से भी प्रस्ताव भेजा गया था लेकिन उसको लेकर अभी कोई निर्णय नहीं आया है।

ज्ञात रहे कि कोरोना संक्रमण से पहले उप मूल्यांकन समिति की बैठकों का आयोजन किया गया था जिसमें नई कलेक्टर गाइड लाइन को लेकर नई 87 नई लोकेशनों को जोड़ा गया था जो अब तक गाइड लाइन में शामिल नहीं थीं। इसके साथ ही गाइड लाइन की विसंगति दूर करने के लिए अलग-अलग वृत्तों की दरें समान की गईं। इनमें शहर के मुख्य बाजारों को भी शामिल किया गया। विभिन्न आपत्तियों के बाद यह भी बढ़ोत्तरी निरस्त कर दी गईं। शासन पहले ही पिछले साल कलेक्टर गाइड लाइन में 20 फीसद की कमी कर चुका है। वहीं फरवरी 2020 में वाणिज्यिक कर विभाग यह आदेश भी जारी कर चुका है कि नई कलेक्टर गाइड लाइन नहीं बढ़ाई जाएगी और इसी आदेश में आरसीसी निर्माण दर को आठ हजार से बढ़ाकर बारह हजार रुपये प्रति वर्ग मीटर कर दिया गया था। यही दरें एक जुलाई 2020 से लागू हो गई हैं।

ऐसे समझें : डेढ़ गुना ऐसे आएगा फर्क

आरसीसी निर्माण लागत को 8 हजार से बढ़ाकर 12 हजार रुपये प्रति वर्ग मीटर बढ़ाने के बाद अब डेढ़ गुना का फर्क जेब पर मार करेगा। यदि आप एक हजार वर्ग फीट के मकान की रजिस्ट्री कराते हैं तो वर्ग मीटर में वह 92.93 वर्ग मीटर होगा। इस तरह एक हजार वर्ग फीट के मकान पर पहले 8 हजार रुपये प्रति वर्ग मीटर आरसीसी निर्माण रेट से 7 लाख 43 लाख रुपये का खर्च आता था और अब 12 हजार रुपये प्रति वर्ग मीटर के रेट में 11.15 लाख रुपये लगेंगे। डेढ़ गुना की यह बढ़ोत्तरी झेलना होगी।

पंजीयन शुल्क में भी आधा प्रतिशत ज्यादा

राज्य शासन ने कोरोना संक्रमण में लोगों को राहत देने के मकसद से 16 मई से पंजीयन शुल्क को तीन प्रतिशत की बजाए ढाई प्रतिशत कर दिया था और आधा प्रतिशत की राहत दी गई थी। 30 जून को अब वह राहत भी खत्म हो गई है। अब 9.5 प्रतिशत स्टांप डयूटी और तीन प्रतिशत पंजीयन शुल्क मिलाकर कुल 12.5 प्रतिशत चुकाना होगा।

विधायक की मांग पर भेजा था आरसीसी का प्रस्ताव

आरसीसी निर्माण दर को 12 हजार से दोबारा 8 हजार करने का प्रस्ताव विधायक प्रवीण पाठक की मांग पर जिला मूल्यांकन समिति की ओर से भेजा गया था। दक्षिण से विधायक प्रवीण पाठक का कहना था कि जब शासन ने आरसीसी निर्माण दर को लेकर बढोत्तरी की थी तब परिस्थितियां अलग थीं और अब अलग हैं।

नई लोकेशन : दरें आसपास की ही लागू

आहूखाना खुर्द- 7600

शंकरपुर -7200

जगनापुरा - 8000

लधेड़ी मुख्य रोड -10000

रमटापुरा -14400

ललितपुर कॉलोनी- 14400

गुढ़ी-10000

चिरवाई-8800

पुरानी छावनी-5200

खेरिया भान-5200

अजयपुर-4800

महाराजपुरा रमन्ना-13000

महाराजपुरा गिर्द-10600

डोंगरपुर-13000

ओहदपुर-19000

सिरोल-11800

मेहरा-14200

विक्रमपुर-6200

नोटःसभी लोकेशनें सूची में नहीं हैं और दरें रुपये प्रति वर्ग मीटर में हैं।

आज से लागू नई गाइडलाइन

नई कलेक्टर गाइड लाइन एक जुलाई से लागू हो गई है। आरसीसी निर्माण दरों में शासन द्वारा की गई बढ़ोत्तरी यथावत है। इसको लेकर जिला मूल्यांकन समिति की ओर से प्रस्ताव भेजा गया है जिस पर अभी निर्णय नहीं आया है। कौशलेंद्र विक्रम सिंह, कलेक्टर

जमीन की कीमतें नहीं बढ़ीं

नई कलेक्टर गाइडलाइन में जमीन की कीमत पुरानी गाइड लाइन के अनुसार ही रहेगी। आरसीसी निर्माण दर 8 हजार रुपये प्रति वर्ग मीटर से बढ़कर अब 12 हजार प्रति वर्ग मीटर लागू होगी। 81 नई लोकेशनों पर आसपास की दरें ही लागू होंगी। दिनेश गौतम, जिला पंजीयक, ग्वालियर

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना