ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि। Rain in Gwalior माघ के महीने में सावन जैसी झड़ी लगी रही। 24 घंटे में 47.2 मिली मीटर पानी बरस गया। 94 साल बाद जनवरी में इतनी बारिश हुई है। इससे पहले 8 जनवरी 1926 को 24 घंटे में 52.6 मिमी पानी बरसा था। इसके बाद जनवरी में बारिश ने 40 मिमी का आंकड़ा पार नहीं किया है। लेकिन इस वर्ष जनवरी 2020 ने 1926 में दर्ज रिकॉर्ड के करीब पानी बरस गया। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में बादल छाने के साथ-साथ बारिश के आसार जताए हैं। आसमान साफ होने के बाद न्यूनतम तापमान गिरावट आएगी। इससे कड़ाके की ठंड का सामना करना पड़ेगा।

जम्मू कश्मीर से पश्चिमी विक्षोभ गुजर रहा है। दक्षिण पूर्व राजस्थान व पश्चिमी मध्य प्रदेश में ऊपर एक चक्रवात बना हुआ है। गत दिवस 3 बजे से बारिश शुरू हुई थी। बारिश का सिलसिला पूरी रात चला। गुरुवार को भी रुक-रुक बारिश होती रही। कभी तेज तो कभी धमी गति से पानी बरसा। बार-बार हो रही बारिश से लोग भीग गए।

अधिकतम तापमान सामान्य से 5.5 डिग्री सेल्सियस नीचे आ गया। वहीं न्यूनतम तापमान सामान्य से 8.1 डिसे अधिक रहा। इससे रात में ठंड कम रही। 24 घंटे बारिश में 47.2 मिमी पानी बरसा है। यह पानी फसलों के लिए अमृत बनकर आया है। इस मावठ से किसानों को फसलों की सिंचाई नहीं करनी पड़ेगी।

इस बार गर्मी-सर्दी व बारिश ने तोड़े रिकॉर्ड

- 6 जून 2019 को अधिकतम तापमान 47.5 रिकॉर्ड हुआ था। इस दिन 53 साल की गर्मी का रिकॉर्ड टूट गया था।

- बारिश के सीजन में 901 मिमी पानी बरसा था। औसत से 100 मिमी ज्यादा बारिश हुई थी।

- 30 दिसंबर 2019 को 100 साल में पहली बार अधिकतम तापमान 8.3 डिसे पर आया था।

- जनवरी 2020 में बारिश 94 साल के रिकॉर्ड के करीब पहुंच गई।

कब-कब हुई 24 घंटे बारिश

- 1 जनवरी 2012- 22.9 मिमी

- 18 जनवरी 2013-8.8 मिमी

-22 जनवरी 2014-33.9 मिमी

-23जनवरी 2015-14.5 मिमी

Posted By: Hemant Upadhyay

fantasy cricket
fantasy cricket