-कलेक्ट्रेट में हुआ नगर निगम के वार्डों का आरक्षण, चक्रानुक्रम में उलझते रहे नेता

-ओबीसी के 17 वार्ड से बढ़कर 20 वार्ड आरक्षित हुए

ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कौन सा वार्ड ओबीसी होगा, कौन सा इस बार अनारक्षित,महिलाओं की दावेदारी कितने वार्डों पर रहेगी। कलेक्ट्रेट में जनसुनवाई हाल में खचाखच हाल में भरी नेता-दावदारों की भीड़ के मन में उठ रहे इन सवालों का चंद मिनटों में जवाब मिल गया। बुधवार दोपहर तीन बजे नगर निगम वार्ड आरक्षण प्रक्रिया पर्चियां डालकर शुरू हुई, जिसमें सबसे पहले ओबीसी वार्डों की घोषणा की गई। कलेक्टर काैशलेंद्र विक्रम सिंह, सीईओ जिला पंचायत आशीष तिवारी सहित अफसरों की टीम ने सबसे पहले बताया कि पिछले दो निकाय चुनावों में जो वार्ड ओबीसी वर्ग के थे, वे इस बार नहीं रहेंगे। इसके बाद ऐसे 25 वार्ड निकाले गए और इनकी पर्चियां डिब्बे में डाल दी गईं। इन 25 वार्डों में पहले 20 वार्ड की जो पर्चियां निकालीं गईं,इन्हें ओबीसी घोषित कर दिया गया। इसके बाद एससी-एसटी,ओबीसी महिला, अनारक्षित, अनारक्षित महिला की पर्चियां निकाल कर आरक्षण प्रक्रिया पूरी कर दी गई।

यह वार्ड हुए ओबीसी

वार्ड- 2

वार्ड-4

वार्ड-9

वार्ड-10

वार्ड-12

वार्ड-15

वार्ड-21

वार्ड-24

वार्ड-27

वार्ड-31

वार्ड-35

वार्ड-38

वार्ड-48

वार्ड-50

वार्ड-56

वार्ड-59

वार्ड-62

वार्ड 63

वार्ड-64

वार्ड-65

यह वार्ड ओबीसी महिला

वार्ड-31

वार्ड-9

वार्ड-62

वार्ड- 2

वार्ड-12

वार्ड-63

वार्ड-35

वार्ड- 27

वार्ड-65

वार्ड- 4

यह 34 सीट अनारक्षित

वार्ड-1

वार्ड-3

वार्ड-5

वार्ड- 7

वार्ड-8

वार्ड-13

वार्ड-14

वार्ड-18

वार्ड-19

वार्ड-20

वार्ड-25

वार्ड-26

वार्ड-29

वार्ड-30

वार्ड-32

वार्ड-33

वार्ड-34

वार्ड-40

वार्ड-41

वार्ड-42

वार्ड-43

वार्ड 44

वार्ड-45

वार्ड-46

वार्ड-47

वार्ड-49

वार्ड-51

वार्ड-52

वार्ड-53

वार्ड-54

वार्ड-55

वार्ड-57

वार्ड-58

वार्ड-66

यह अनारक्षित महिला

वार्ड-1

वार्ड-7

वार्ड-19

वार्ड-25

वार्ड-26

वार्ड-42

वार्ड-44

वार्ड-49

वार्ड-51

वार्ड-58

वार्ड-66

वार्ड-13

वार्ड-20

वार्ड-52

वार्ड-30

वार्ड-18

वार्ड-33

यह एससी वार्डः 23,28,16,22,37,61,11,60,36,39,17 ,इसमें 28,37,11,36,39 और 17 महिला एससी हुए

पहले 25 वार्ड छांटे जो पिछले दो चुनाव में नहीं थे ओबीसीः जिला पंचायत सीइओ आशीष तिवारी ने आरक्षण प्रक्रिया की शुरूआत में बताया कि पहले उन वार्डों की पर्चियां अलग की जांएगी जो 2009 और 2014 में ओबीसी आरक्षित नहीं थे। इन वार्डों की पर्चियां एक डिब्बे में डाल ली गईं और इन 25 पर्चियों में से पहले आरक्षित होने वाले 20 वार्डों को घोषित किया गया। शेष पांच वार्ड सामान्य में चले गए। पहले जिला पंचायत सीइओ ने पांच सामान्य वार्ड निकालने की कही ताे इस पर हाल में मौजूद कुछ लोगों को आपत्ति हुई। इसके बाद जिला पंचायत सीईओ ने कहा कि नियम के अनुसार पहले ओबीसी वार्ड निकाले जाने चाहिए इसलिए पहले ओबीसी की पर्चीं निकालेंगे।

पर्चियां निकलीं,हाव-भाव बदले,कम लोगों ने ही उठाई आपत्तिः वार्डों की जैसे-जैसे पर्चियां निकलती गईं वैसे ही मौके पर उपस्थित दावेदारों व नेताओं के चेहरे के हावभाव बदलने लगे। कुछ मायूस तो कुछ लोग शोर मचाकर खुशी जाहिर करने लगे। निर्वतमान पार्षद बलवीर सिंह ने आपत्ति की कि पहले 19 नंबर वार्ड महिला ओबीसी थी तो फिर महिला कैसे हो गई। उन्हें बुलाकर अफसरों ने बताया कि इस बार महिला सामान्य हुई है और चक्रानुक्रम के आधार पर यह ठीक हुआ है। वार्डों की चक्रानुक्रम को कई नेता समझ नहीं पा रहे थे इसलिए दुविधा में फंस गए। आरक्षण प्रक्रिया में नगर निगम आयुक्त किशोर कान्याल, उप जिला निर्वाचन अधिकारी विनोद भार्गव, एसडीएम अनिल बनवारिया, निगम उपायुक्त मुकुल गुप्ता आदि उपस्थित थे।

घंटे भर में निपट गया शहर वार्डों का आरक्षणः शहर के वार्डों का आरक्षण घंटे भर में निपट गया। दोपहर तीन बजे से शुरू हुई प्रक्रिया चार बजे तक निपट गई। इसके बाद नगर पालिका के वार्डों का आरक्षण शुरू किया गया।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close