-आठ दिन के अभियान में प्रदेश में 1003 बसों पर कार्रवाई

-सीधी हादसे से नहीं लिया सबक, फिर वैसी ही स्थिति में चलने लगी बसें

ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। सीधी हादसे के 15 माह बाद परिवहन विभाग ने यात्री वाहनों के खिलाफ फिर से कार्रवाई शुरू की है। 16 से 23 मई के बीच आठ दिन के इस अभियान के दौरान 791 बसें ओवर लोड मिली हैं, जबकि 212 बसें नियम का पालन नहीं कर रही थीं। ओवरलोडिंग की स्थिति देखी जाए ताे रीवा सबसे आगे हैं। नियम तोड़ने में मंदसौर। रीवा में 86 बसें ओवरलोड मिली हैं। मंदसौर में ओवर स्पीड में 39 बसों पर जुर्माना किया गया, लेकिन सीधी के जिला परिवहन कार्यालय में सुस्ती दिखी है। इस कार्यालय के अधिकारी मैदान में कार्रवाई के लिए नहीं निकले। यहां पर आठ दिन में आंकड़ा शून्य है। ग्वालियर मुख्यालय पर भी चुस्ती नहीं दिखी है। यहां भी अभियान में रस्मअदायगी की गई है।

16 फरवरी 2021 को सीधी जिले में एक यात्रियों से भरी बस नहर में गिर गई थी, जिसके चलते 54 लोगों की नहर में डूबने से मौत हो गई थी। इस हादसे के बाद बसों में यात्री कितने सुरक्षित हैं, जांच में इसकी सच्चाई सामने आई थी। परिवहन विभाग ने पूरे प्रदेश में कार्रवाई की। हर जिलों में बसों को चैक किया गया। 43 दिनों में 29 हजार 525 बसों की जांच की गई। बड़ी संख्या में गड़बड़ी मिली थी, लेकिन इसी बीच कोविड-19 का संक्रमण फैल गया, जिसके चलते अभियान थम गया। बसों का संचालन भी रोक दिया गया था। जब बसों का संचालन शुरू हुआ तो यात्रियों की संख्या कम थी। सब कुछ सामान्य हो गया है। बसों में ओवरलोडिंग शुरू हो गई है। यात्रियों का सफर सुरक्षित हो सके, उसको लेकर फिर से अभियान चलाया गया है। अभियान में वैसी सख्ती नहीं दिख रही है, जैसी सीधी हादसे के बाद दिखी थी।

इन जिलों का आंकड़ा रहा शून्य

-आलीराजपुर, अनूपपुर, डिंडोरी, सीधी, सतना जिले के परिवहन कार्यालयों ने कार्रवाई नहीं की। यहां पर आंकड़ा शून्य है। टीकमगढ़, सिंगरौली, शाजापुर, शहडोल, नरसिंहपुर, खरगोन, अशोनगर में कार्रवाई का आंकड़ा तीन से नीचे है।

- 1003 बसों से विभाग ने 19 लाख 43 हजार 209 रुपये का जुर्माना वसूल किया है। ओवर लोडिंग का जुर्माना अधिक है।

-बस में ओवरलोडिंग, ओवर स्पीड, फिटनेस, ड्राइवर पर लाइसेंस, परमिट आदि की जांच की जा रही है। ओवरलोडिंग के मामले सबसे ज्यादा आ रहे हैं। क्षमता से दो गुना तक सवारियां बस में मिली हैं।

हेल्पलाइन नंबर भी प्रचलन में नहींः सीधी हादसे के बाद परिवहन विभाग ने ओवरलोडिंग पर प्रतिबंध लगाने के लिए वाट्सएप नंबर जारी किए गए थे। 9479925233 व 9479925245 नंबर जारी किए थे। इन नंबरों पर सुबह आठ बजे से रात 9 बजे तक ओवरलोडिंग वाहनों के फोटो मांगे गए थे। गाड़ी का नंबर व ओवरलोडिंग की फोटो स्पष्ट भेजना थी। यह व्यवस्था होने के बाद विभाग का काम आसान हो गया था, लेकिन अब यह व्यवस्था बंद हो गई। वर्तमान में ओवरलोडिंग की शिकायत करने के लिए कोई भी हेल्पलाइन नहीं है, जहां यात्री शिकायत कर सके।

ये जिले कार्रवाई में सबसे आगे

जिला ओवरलोडिंग चालान

रीवा 86

सागर 58

छिंदवाड़ा 50

भिंड 45

सिवनी 44

जबलपुर 39

शिवपुरी 34

छतरपुर 33

इंदौर 32

भोपाल 28

ग्वालियर 04

(नाेटः यह कार्रवाई 16 मई से 23 मई के बीच की गई।)

वर्जन-

प्रदेश में यात्रियों का सफर सुरक्षित करने के लिए लगातार अभियान चलाया जाएगा। जिन जिलों में कार्रवाई नहीं की हैं, उन्हें निर्देशित किया गया है। अभियान में ढिलाई नहीं बरती जाएगी।

मुकेश जैन, आयुक्त परिवहन विभाग

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close