-गड्ढे में वाहन फिसलने से दो युवक घायल, एक युवक की अंगुलियों के ऊपर से गुजरा ट्रक

ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। व्यापारियों की माल ढुलाई से लेकर भारी वाहनों की मरम्मत तक का सबसे बड़ा गढ़ यातायात नगर अब यातायात के लायक नहीं बचा है। यहां अब सड़क ढूंढने से भी नहीं मिल रही है। वर्षा के चलते सड़कों में बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं और नगर निगम इन्हें सुधारने की सुध नहीं ले रहा है। यहां पैंच रिपेयरिंग न होने के कारण खुदी हुई सड़कें वर्षा के पानी से दलदल में तब्दील हो गई हैं। गत सोमवार की शाम को इन्हीं गड्ढों के चलते एक भयानक हादसा हुआ, जिसमें शहर के एक व्यापारी के दो बेटे बुरी तरह से घायल हो गए। इसमें एक बेटे की अंगुलियों के ऊपर से ट्रक गुजर गया, जिससे दो अंगुलियां पूरी तरह से कुचल गईं।

एबी रोड स्थित यातायात नगर मूलरूप से ग्वालियर विकास प्राधिकरण (जीडीए) की 44 साल पुरानी योजना है। इसे वर्ष 1978 की स्कीम के तहत जीडीए ने विकसित किया था। यहां गत मार्च माह तक विकास कार्यों से लेकर संधारण तक की जिम्मेदारी जीडीए के पास ही थी, लेकिन जीडीए ने मार्च माह में ही इसे नगर निगम के सुपुर्द कर दिया था। अब यहां सड़क, सीवर, स्ट्रीट लाइट, पानी जैसी सुविधाएं मुहैया कराना नगर निगम की जिम्मेदारी है। यहां विकास कार्य के लिए जीडीए ने नगर निगम को चार करोड़ रुपये का भुगतान भी किया था, लेकिन नगर निगम ने यहां विकास कार्यों की कोई सुध नहीं ली। जीडीए द्वारा दी गई चार करोड़ रुपए की राशि से भी कोई विकास कार्य नहीं कराए गए हैं। इसका नतीजा यह है कि यातायात नगर की सड़कें पूरी तरह से बदहाल अवस्था में पहुंच गई हैं। यातायात नगर में सोमवार को हुए हादसे के बाद नगर निगम के अधिकारी अब यहां पहले पैंच रिपेयरिंग और बाद में सड़क निर्माण कराने की बात कह रहे हैं।

-बड़े भाई का हाथ कुचला, छोटे को आईं अंदरूनी चोटें-

दौलतगंज में इलेक्ट्रानिक्स का कारोबार करने वाले व्यापारी स्वतंत्र गोयल के दो बेटे हर्षित और सुधांशु गोयल माल बुक कराने के लिए सोमवार को स्कूटी से यातायात नगर गए थे। वहां से लौटते समय सड़क पर हुए एक गड्ढे में स्कूटी फिसल गई। अचानक फिसलने से सुधांशु के हाथ-पैरों और चेहरे पर खरोचों के साथ अंदरूनी चोटें आईं। वहीं हर्षित गोयल जैसे ही सड़क पर गिरे, वैसे ही पीछे से आ रहे एक ट्रक की चपेट में उनकी हथेली आ गई। इसके चलते उनके हाथ दो अंगुलियां पूरी तरह से कुचल गईं। व्यापारी स्वतंत्र गोयल ने बताया कि गड्ढों के कारण यह हादसा और गंभीर भी हो सकता था।

-80 लाख का एस्टीमेट तैयार-

नगर निगम ने यातायात नगर की सड़कें तैयार करने के लिए अब 80 लाख रुपए की लागत से एस्टीमेट तैयार किया है। इसमें सड़कों का डामरीकरण कार्य कराया जाएगा। निगम के अधिकारी स्वयं स्वीकार कर रहे हैं कि वहां के हालात ज्यादा खराब हैं। इस कारण बिल्कुल उखड़ चुकीं सड़कों पर डामरीकरण कार्य कराया जाएगा। इसके बाद सीसी रोड निर्माण के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा जाएगा।

वर्जन

कुंभकर्णी नींद सो रहे हैं अधिकारी और जनप्रतिनिधि

प्रशासन के अधिकारी और जनप्रतिनिधि कुंभकर्णी नींद सो रहे हैं। वे इतने असंवेदनशील हो चुके हैं कि हर बार किसी हादसे के बाद ही उन्हें मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने की याद आती है। कई बार यातायात नगर में कारोबारियों ने धरना-प्रदर्शन किया, लेकिन हर बार आश्वासन के अलावा मौके पर कोई कार्य नहीं कराया गया। मेरे बड़े बेटे की अंगुलियां बुरी तरह से कुचल गई हैं। इन्हें ठीक होने में काफी समय लगेगा।

स्वतंत्र गोयल, इलेक्ट्रानिक कारोबारी

एस्टीमेट तैयार कर लिया है

यातायात नगर के हालात बहुत ज्यादा खराब हैं। वहां सड़कों पर डामरीकरण कार्य कराने के लिए हमने 80 लाख रुपए का एस्टीमेट तैयार कर लिया है। इसके अलावा मजबूत सड़कों के निर्माण के लिए शासन के पास प्रस्ताव भेजा जाएगा। वहां प्राथमिकता से पैंच रिपेयरिंग कराने के साथ ही अब जल्द ही सड़कों का निर्माण शुरू कराया जाएगा।

एपीएस जादौन, नोडल अधिकारी पैंच रिपेयरिंग

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close