जोगेंद्र सेन. ग्वालियर (नईदुनिया)। शिवराज सरकार में ग्वालियर-चंबल की अहमियत पहले से ही तय थी, लेकिन इतना ज्यादा तवज्जो मिलेगी यह किसी ने सोचा नहीं था। शिवराज मंत्रिमंडल में 35 फीसद हिस्सेदारी दोनों संभागों के मंत्रियों की है। ज्योतिरादित्य सिंधिया का भाजपा में आना और उपचुनाव ग्वालियर-चंबल के लिए काफी मुफीद साबित हुआ है।

मंत्रिमंडल विस्तार में 6 कैबिनेट और 5 राज्यमंत्री का तोहफा अंचल को मिला है। दतिया से डॉ. नरोत्तम मिश्रा पहले ही सरकार में शामिल हैं। पिछली शिवराज सरकार के मुकाबले इस बार पांच मंत्री ज्यादा बने हैं। इसकी मुख्य वजह शिवराज सरकार का भविष्य अंचल में होने वाले उपचुनाव पर टिका होना है।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ मंत्री पद व विधायकी से इस्तीफा देकर भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने वाले पूर्व मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर व इमरती देवी का कैबिनेट मंत्री बनना पहले से तय था। कमल नाथ सरकार में जिले के 6 विधायकों में से 3 मंत्रिमंडल में शामिल थे, लेकिन तीनों मंत्री कैबिनेट रैंक के थे। शिवराज मंत्रिमंडल में पहली बार स्थान पाने वाले भारत सिंह को राज्य मंत्री का दर्ज दिया गया है।

जातीय समीकरणों के कारण अंतिम क्षणों में गोहद के पूर्व विधायक रणवीर जाटव मंत्रिमंडल की दौड़ से बाहर हो गए। ओपीएस भदौरिया को सिंधिया के प्रति वफादार रहने का इनाम मिला है। मंत्रिमंडल में शामिल हुए प्रद्युम्न, इमरती को अभी उपचुनाव का सामना करना है।

मंत्री पद की शपथ लेने वाले प्रद्युम्न सिंह तोमर, इमरती देवी व भारत सिंह कुशवाह के निवास पर गुरुवार सुबह से खुशी का माहौल था। प्रद्युम्न सिंह के कांच मिल स्थित निवास पर शपथ-ग्रहण के बाद समर्थक ढोल-तासे के साथ पहुंचे। मिठाइयां बांटी, पटाखे भी फोड़े। यही दृश्य भारत सिंह कुशवाह के थाटीपुर स्थित निवास पर था। इमरती देवी के झांसी रोड स्थित सरकारी आवास पर भी खुशी का माहौल था।

भारत को मंत्रिमंडल में शामिल कर कुशवाह समाज को साधा

भारत सिंह कुशवाह विधानसभा के लिए दूसरी बार निर्वाचित हुए हैं। 2019 के विधानसभा चुनाव में भारत सिंह की जीत कई मायनों में महत्वपूर्ण थी, क्योंकि जिले की 6 विधानसभा सीटों में से 5 पर कांग्रेस ने कब्जा कर लिया था। केवल भारत सिंह कुशवाह भाजपा से जीत दर्ज कर पाए थे। भाजपा के दो पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया और नारायण सिंह कुशवाह चुनाव हार गए थे। कांग्रेस छोड़कर सिंधिया के भाजपा में शामिल होने से भाजपा ने 13 महीने में सरकार बना ली। भारत सिंह को कुशवाह समाज को साधने व पूर्व केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर समर्थकों को संतुष्ट करने के लिए राज्य मंत्री के रूप में शामिल किया गया है। बदले हुए समीकरणों में जिले के 6 विधायकों में से 3 को विधायकी से इस्तीफा देने के कारण फिर से उपचुनाव का सामना करना है।

एंदल सिंह की हठ काम आई

मुरैना जिले के सुमावली विधायक एदल सिंह कंसाना भी कांग्रेस छोड़कर आए हैं। एदल सिंह की गिनती प्रदेश में दिग्विजय सिंह समर्थकों में होती थी। लेकिन कमल नाथ मंत्रिमंडल में स्थान नहीं मिलने के कारण वे नाराज थे और मंत्री बनने के लिए हठ किए थे। कांग्रेस ने एदल सिंह की नाराजगी को गंभीरता से नहीं लिया। जिसके कारण एदल सिंह कंषाना कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए। भाजपा ने उनकी मंशा को पूरा करते हुए शिवराज मंत्रिमंडल में स्थान दिया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020