रात्री आठ बजे से प्रारंभ होगी रामलीला, रावण, कुंभकरण व मेघनाथ के पुतलों का दहन भी फूलबाग मैदान में होगा

ग्वालियर, (नईदुनिया प्रतिनिधि) श्रीराम लीला समारोह समिति के 75 वें पहली बार श्रीराम लीला का मंचन फूलबाग मैदान में रविवार सर्व-पितृ अमावस्या से किया जाएगा। पहले दिन श्री गणेश पूजन से श्रीरामलीला का मंचन श्रीगणेश पूजन व शिव-पार्वती के संवाद व नारद-मोह से होगा। 11 दिवसीय रामलीला का समापन 6 अक्टूबर श्रीराम का राज्याभिषेक एवं आतिशबाजी के साथ होगा। श्रीराम लीला का मंचन श्री हित राधा कृष्ण कला मंडल वृंदावन के कलाकारों द्वारा स्वामी चंद्र बिहारी वशिष्ठ एवं दवेंद्र वशिष्ठ के निर्देशन में होगा।

संजीवनी लेकर उड़ान भरते हुये आयेंगे पवन पुत्र मंच पर आयेंगे

श्रीरामलीला समारोह समिति के अध्यक्ष विष्णु गर्ग, स्वागत अध्यक्ष राधेश्याम भाकर व कार्यक्रम संयोजक रमेश अग्रवाल ने मीडिया से चर्चा करते हुये बताया कि श्रीरामलीला के मंचन की सभी तैयारी पूर्ण हो गईं हैं। श्रीराम लीला के मंचन के लिए कलाकारों की टीम वृंदावन से आ चुकी है। मंच के सामने गद्दों के अलावा कुर्सियों पर दर्शकों के बैठने की व्यवस्था की गई है। श्रीरामलीला का मुख्य आकर्षण कैकई दशरथ संवाद राम वनवास व केवट संवाद शाम पांच बजे से कटोराताल पर होगा। इसके अलावा चार अक्टूबर मंगलवार को संजीवनी लेकर आने का हनुमान जी की उड़ान के दृश्य का संजीव मंचन किया जाएगा। विजयदशमी पर रावण,कुंभकरण व मेघनाथ के विशाल पुतलों का दहन भी फूलबाग मैदान में किया जाएगा।

11 दिव तक होगा रामलीला का मंचन

25 सितंबर (रविवार)- शिव-पार्वती व नारद मोह संवाद

26 सितंबर (सोमवार)- मनु सतरूपा तपस्या, रावण तपस्या, मेघनाथ विजय एवं श्रीराम का जन्म

27 सितंबर (मंगलवार) मुनि आगमन ताड़का, सुबाहु, मारीच वध, अहिल्या उद्धार, गंगा नगर दर्शन( मीना बाजार एवं भव्य मेला)

28 सितंबर (बुधवार) रावण वाणासुर संवाद, लक्ष्मण जनक संवाद, धनुष यज्ञ, राम विवाह, (वरमाला)

29 सितंबर (गुरुवार) कैकई दशरथ संवाद, राम वनवास, कैवट संवाद (स्थान वीर सावरकर सरोवर पर शाम पांच बजे से)

30 सिंतबर (शुक्रवार) राजा दशरथ मरण, भरत मिलाप, भगवन श्रीराम का पंचवटी निवास

1 अक्टूबर (शनिवार)सुर्पणखा नासिका छेदन, खरदूषण वध, सीता हरण, शबरी माता से मिलन

2 अक्टूबर (रविवार) सुग्रीव मित्रता, बाली बध, लंका दहन, सीता खोज

3 अक्टूबर (सोमवार) रामेश्वर स्थापना, विभीषण शरणगति, अंगद-रावण का संवाद

4 अक्टूबर (मंगलवार) श्रीलक्ष्णण शक्ति कुंभकरण वध

5 अक्टूबर (बुधवार) अहिरावण का वध, मेघनाथ व रावण का वध

6 अक्टूबर (गुरुवार) श्रीराम का राज्यभिषेक एवं आतिबाजी होगी।

मीडिया से चर्चा के दौरान सत्यप्रकाश मिश्रा, सुरेश बंसल, विजय गोयल, विमल जैन, सुरेश बंसल, रमेश चौरसिया, यश गोयल,स पीतांर लोकवानी, सुरेंद्र शर्मा सरपंच सुधीर गुप्ता, संजय कट्ठल, राम सुंदर रामू, रामनारायण मिश्रा सहित समिति के पदाधिकारी मौजूद थे।

कैसे होगी मैदान बना हैं दल-दल

चार दिन से नगर में हो रही अनवरत हो रही वर्षा के कारण फूलबाग मैदान दल-दल बना हुआ है। मंच वर्षा के पानी के सरोबार है। मैदान के चारों तरफ कीचड़ ही कीचड़ ही नजर आ रही है। अगले 24 घंटे में वर्षा की संभावना को देखते हुये मैदान की सूखने की उम्मीद न के बराबर है। आयोजकों ने रामलीला देखने के लिये आने वाले लोगों के लिए वाटरप्रूफ टेंट व डोम की भी व्यवस्था नहीं की है। इन अव्यवस्थाओं पर श्रीरामलीला समारोह समिति मौन हैं। पदाधिकारियों का कहना है कि व्यवस्थाएं की जा रहीं हैं।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close