Solar Plant in Gwalior: अजय उपाध्याय. ग्वालियर। ग्वालियर-चंबल अंचल में 11 करोड़ की लागत से पहला सोलर पावर प्लांट बिलौआ में तैयार हो रहा है। जहां पर सौर ऊर्जा की मदद से बिजली का उत्पादन होगा। यह बिजली उद्योगों को सस्ते दाम पर उपलब्ध कराई जाएगी। जिससे उद्योगों का बिजली पर खर्चा कम होगा और पर्यावरण में कार्बन का उत्सर्जन घटेगा। प्रदेश सरकार की मदद से यह प्लांट मार्तण्डक सोलर एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड द्वारा 10 बीद्या जगह में लगाया जा रहा है। एक अप्रैल से उद्योगों के लिए बिजली की सप्लाई शुरु कर दी जाएगी। गौरतलब है कि केन्द्र सरकार ने हाल ही में पांच सूत्रीय कार्यक्रम में 2070तक कार्बन मुक्त की बात कही है और 2030 तक 50 फीसद बिजली से उत्पन्न होने वाले कार्बन को कम करने की बात की है। जिसको लेकर जल्द ही प्रदेश सरकार एक नियम लाने वाली है जिसमें सभी उद्योगों को 20 से 30 फीसद ग्रीन एनर्जी का उपयोग करना अनिवार्य होगा।

हर महीने होगा 3 लाख यूनिट का उत्पादन-

इंजीनियर राजन अग्रवाल का कहना है कि सोलर प्लांट से हर महीने 3 लाख यूनिट का उत्पादन होगा। दस बीद्या जगह में 2 मेद्यावाट के करीब 30 प्रोजेक्टर लगाए जा रहे हैं। दो मेद्यावाट के एक प्रोजेक्टर से हर दिन 9 से 10 हजार यूनिट बिजली तैयार होगी। इस तरह से हर महीने 3 लाख यूनिट बिजली का उत्पादन होगा। जिसे संरक्षित करने के लिए एक सब स्टेशन तैयार किया जा रहा है। जिसकी मदद से यह बिजली ऊर्जा विकास निगम के माध्यम से शहर व उसके आसपास लगे औद्योगिक क्षेत्र तक पहुंचाई जाएगी।

उद्योगों को मिलेगी 2 रुपये सस्ती बिजली-

मार्तण्डक सोलर एनर्जी के संचालक का कहना है कि मध्यप्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा तकरीबन 8 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से उद्योगों को बिजली की सप्लाई दी जाती है। जबकि सोलर एनर्जी प्लांट की मदद से उद्योगों को करीब 6 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से बिजली उपलब्ध कराई जाएगी। जिसमें 2 रुपये 80 पैसे का मध्यप्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी को परिवहन के रुप में दिए जाएंगे और 3 रुपये 20 पैसा मार्तण्डक सोलर एनर्जी को मिलेंगे। इसके लिए कंपनी द्वारा अपना खुद का मीटर संबंधित उद्योग केन्द्र पर लगाया जाएगा। बिल खुद कंपनी बसूलेगी और परिवहन का पैसा बिजली विभाग को दिया जाएगा।

इनका कहना है-

एमपी में जून 2022 में लागू हुई पालसी, एनर्जी रेग्यूलेशन बोर्ड से पहली परमिशन मिली है। बिलौआ में पैनल लगाने काकाम तेजी से चल रहा है। 31मार्च तक स्टोलेशन का काम पूरा होते ही 1 अप्रैल से बिजली की सप्लाई शुरू कर दी जाएगी। इससे कार्बन उत्सर्जन घटेगा,प्रर्यावरण स्वच्छ रहेगा।

इंजी,राजन अग्रवाल, संचालक मार्तण्डक सोलर एनर्जी प्रालि.

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close