ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। बिरला नगर स्थित श्रीतारा विद्यापीठ में चल रहे यज्ञात्मक देव प्राण प्रतिष्ठा का समापन गुरुवार को हुआ। अंतिम दिन उच्छिष्ठ गणपति एवं मां त्रिपुर सुंदरी की प्रतिमाएं वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ स्थापित की गईं। आयोजन लाल बहादुर शास्त्री संस्कृत विवि नई दिल्ली के आचार्य व विभागाध्यक्ष पंडित गोपाल प्रसाद शर्मा और शासकीय संस्कृति महाविद्यालय गोरखपुर के पंडित प्रवीण कुमार पांडे के मार्गदर्शन में पूर्ण हुआ।

मार्गशीर्ष कृष्ण पक्षे षष्ठी को सुबह से ही सभी आचार्यों ने स्नान पश्चात मंदिर प्रांगण के विशेष स्थल पर विधिवत पाठ प्रारंभ किया। वेदपाठियों ने भी स्नान आदि करने के पश्चात सस्वर समूह में वैदिक मंत्रोच्चार के साथ यज्ञात्मक प्राण प्रतिष्ठा पूजा प्रारंभ की। इसी क्रम में प्राण प्रतिष्ठा, देवताओं का षोडशोपचार पूजन, आयुधहोम नामकरण पूर्णाहुति एवं फूल बंगला, छप्पन भोग एवं भोजन प्रसादी के साथ भंडारा हुआ। पूजा कार्य को विधिवत क्रमबद्ध रूप में आचार्य एवं वेद पाठी गण ने संपन्न कराया। इस दौरान श्रीतारा विद्यापीठ न्यास अध्यक्ष पूर्व मंत्री व पूर्व सांसद अनूप मिश्रा, रामदास महाराज दंदरौआ सरकार, जड़ेरुआ सरकार और राम भूषणदास महाराज आदि उपस्थित थे।

उल्लेखनीय है कि दोनों ही प्रतिमाओं को शहर के वास्तु को ठीक करने के लिए स्थापित किया गया है। जिससे शहर का विकास हो और खुशहाली आए। दोनों ही प्रतिमाओं को स्थापित करने के लिए काफी पहले से योजना बनाई जा रही थी। इसके बाद श्रीतारा विद्यापीठ में दोनों देव प्राण प्रतिष्ठा की गई। इस कार्यक्रम में शहर सहित आसपास के कई लोग मौजूद थे।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local