ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि। विक्की फैक्टरी तिराहे से हाइवे के चौराहे तक लोक निर्माण विभाग द्वारा चार साल पहले तैयार कराई गई सात किलोमीटर की रोड पर स्ट्रीट लाइट के लिए लगाए गए 20 से अधिक पोल खतरनाक स्थिति में आ गए हैं। इसमें कई पोल झुक गए हैं जिनके कभी भी गिरने का डर है। इसके चलते किसी दिन गंभीर हादसा हो सकता है। कई शिकायतों के बावजूद इस समस्या का कोई प्रभावी हल नहीं निकाला जा सका है।

विक्की फैक्टरी तिराहे से ग्वालियर-झांसी नेशनल हाईवे को जोड़ने वाली इस सड़क पर प्रतिदिन 10 हजार से अधिक वाहनों का आवागमन होता है। इस सड़क पर दोनों ओर अधिकतर शैक्षणिक संस्थान हैं, साथ ही अन्य व्यवसायिक गतिविधियां चलती हैं। यहां रिहायशी इलाका कम है। इसके कारण अधिकारी भी यहां पर ध्यान नहीं देते। पोल गिर जाने के कारण या उससे लाइट निकल जाने के कारण रात के समय लाइट्स बंद रहती है। इससे वहां से निकलने वाले दोपहिया और चार पहिया वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। इस पूरी रोड पर लगभग डेढ़ सौ स्ट्रीट पोल हैं, जिनको साढ़े सात करोड़ रुपए की लागत से लगाया गया था। पीडब्ल्यूडी के ईएंडएम डिवीजन ने ये लाइटें लगवाई थीं। वर्तमान में इनकी देखरेख का जिम्मा नगर निगम का है। नगर निगम आयुक्त का कहना है कि अधिकारियों से कहेंगे कि जल्द ही स्ट्रीट पोल को ठीक कराया जाए। गौरतलब है कि जब यहां लाइटें लगाई गई थीं, तब इसका बिजली का कनेक्शन पीडब्ल्यूडी ने कराया था। काफी समय तक उन्होंने इन लाइट को जलाने का क्रम चलाया। बाद में इसे नगर निगम के हैंडओवर किया तब तक ढाई लाख रुपए का बिल हो गया था। निगम ने इसको देने से मना कर दिया, उसका कहना था जब से हमने हैंडओवर लिया है तब से इसका पैमेंट किया जाएगा। इसके कारण बिजली कंपनी ने लाइट काट दी थी। दो महीने बाद जाकर यह मामला सुलझ पाया था।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close