Super Specialty Hospital Gwalior: ग्वालियर। सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल के चौथी मंजिल पर बने कोविड आइसीयू में शनिवार को लगी आग हाईफ्लो आक्सीजन मशीन में विस्फोट होने से भड़की है। तीन महीने पहले 29 अगस्त को भी यहां पर हाईफ्लो आक्सीजन मशीन में आग लगी थी, लेकिन तब कोई हताहत नहीं हुआ था तो मामला सुर्खियों में नहीं आया। इस अस्पताल में एमआरआइ से लेकर हर छोटी-बड़ी करोड़ों की आधुनिक मशीनें लगईं गई हैं। यह मशीनें सीधे दिल्ली या फिर भोपाल से राज्य सरकार की एजेंसी द्वारा उपलब्ध कराई गईं हैं। अब दो मरीज झुलसने और दो की मौत होने से इस आधुनिक अस्पताल में लगाई गईं मशीनों की गुणवत्‍ता पर सवाल खड़े हो गए हैं।

गौरतलब है कि सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में शनिवार दोपहर दो बजे आग लगी थी। शुरुआत में माना जा रहा था कि आइसीयू के फॉल्स सीलिंग लाइट में शार्ट सर्किट हुआ था, जिससे यह आग लगी थी। लाइट के आसपास लगी प्लास्टिक जलने से वह नीचे रखे बेड पर गिरी, जिससे बेड व गद्दे ने आग पकड़ ली। लेकिन प्राथमिक जांच में सामने आया है कि छत की लाइट में शार्ट सर्किट नहीं बल्कि हाईफ्लो आक्सीजन मशीन में विस्फोट होने से आग भड़की थी।

ऐसे फैली आग

आइसीयू में जले हुए पलंग के बगल से रखी हाईफ्लो आक्सीजन मशीन में विस्फोट हुआ। विस्फोट से निकली चिंगारी से बेड पर लेटे मरीज के तकिया व गद्दे ने आग पकड़ ली। मरीज झुलसा तो वह जमीन पर जा गिरा और गद्दा धूं-धूं कर जलने लगा। गद्दे से उठी लौ के कारण छत की लाइट के आसपास लगी प्लास्टिक जलने लगी। जलती हुई प्लास्टिक बेड पर गिरी, जिससे पूरा बेड जलकर स्वाहा हो गया।

जिला अस्पताल के एसएनसीयू में भी लग चुकी आग

तीन साल पहले जिला अस्पताल के एसएनसीयू व इससे पहले सिविल सर्जन कार्यालय के एक कक्ष में शार्ट सर्किट से आग लग चुकी है। हालांकि उस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ था।

इनका कहना है

सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल की निर्माण एजेंसी एचएससीसी है, जबकि मशीनें भोपाल व दिल्ली से अलग-अलग एजेंसियों द्वारा भेजी गई हैं। निर्माण कार्य 2018 में पूरा होना था, जो अब तक नहीं हो सका। इस कारण यह भवन मेडिकल कालेज के सुपुर्द नहीं हो सका है। योजना विकास विभाग ने समय-समय पर संबंधित एजेंसियों व शासन को निर्माण में देरी संबंधी जानकारी दी है।

डा. देवेन्द्र सिंह कुशवाह, योजना विकास अधिकारी, जीआरएमसी

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस