ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि) सर्व पितृ अमावस्या पर रविवार को सात शुभ योग में पितरों की विदाई पितर लोक के लिए होगी। इस अवसर पर लक्ष्मीबाई कालोनी व लक्ष्मीबाई कालोनी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में सामूहिक तर्पण का आयोजन किया जा रहा है। इसके साथ ही दाता बंदी छोड़ तीन दिवसीय कार्यक्रम का समापन होगा। पहली बार श्रीरामलीला का मंचन फूलबाग पर मंचन आज रात से होगा। पहले दिन शिव-पार्वती संवाद के साथ के नारद मोह का मंचन होगा। रविवार को मौसम विभाग ने बारिश होने की संभावना जताई है।

शुभ योग होगी पितृ को विदाई

सर्वपितृ अमावस्या तिथि पर ग्रह, वार नक्षत्रों से मिलकर कुल सात शुभ योग का निर्माण हो रहा है। जिससे यह महापर्व बनेगा। इस शुभ योग में स्नान, दान, श्राद्ध करने से पितर साल भर के लिए संतुष्ट होकर पित्तर लोक में विदा होंगे। सर्व पितृ अमावस्या पर लक्ष्मीबाई कालोनी स्थित सामुदायिक भवन के अलावा लक्ष्मीबाई कालोनी में स्थित सामुदायिक भवन में सामूहिक तर्पण के कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।महाराष्ट्र ब्राह्मण सभा द्वारा सामूहिक पितृ तर्पण कार्यक्रम रविवार को सुबह 11 30 बजे लक्ष्मीबाई उच्चतर माध्यमिक विद्यालय विवेकानंद मार्ग पर आयोजित किया जायेगा।

अग्रसेन जयंती पर वाहन रैली आज

महाराजा अग्रसेन जयंती के उपलक्ष में अग्र सेवा संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष अजय जैन एवं महामंत्री अशोक गुप्ता ने बताया कि अग्रसेन जयंती की पूर्व संध्या पर रविवार को दोपहर 3 बजे कोटेश्वर मंदिर से विशाल वाहन रैली निकाली जाएगी जो तीनों शहरों में भ्रमण कर गोपाल मंदिर फुलबाग पर पूर्ण होगी। रैली में महाराजा अग्रसेन जी का रथ होगा।

वार्षिक जैन मेला आज लगेगा

श्रमण मुनिश्री विनय सागर जी महाराज के सानिध्य में उरवाई गेट स्थित जैन तीर्थ श्री दिगंबर जैन त्रिशलगिरी अतिशय पर 25 सितम्बर को अमावस्य पर वार्षिक जैन मेले का आयोजित होगा। श्री त्रिशलगिरी अतिशय क्षेत्र पर प्रातः 6:00 बजे से भगवान जिनेंद्र का अभिषेक शांतिधारा, मंगल प्रवचन होंगें।

श्री अखंड पाठ के साथ तीन दिवसीय दाता बंदी छोड़ पर्व का समापन होगा

गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़ दिवस के तीन दिवसीय कार्यक्रम का समापन आज रविवार को श्री अखंड पाठ के भोग के साथ दीवान सजेगा। इसके साथ दोपहर को कीर्तन व सम्मान समारोह भी आयोजित किया जाएगा। सर्व पितृ अमावस्या काफी संख्या में सिख समुदाय के लोग किले से स्थित गुरुदद्वारे पर मत्था टेकने के लिए पहुंचेंगे। देश-विदेश से आईं संगतों की विदाई होगी। शाम का अंचल की एक संगत अमृतसर के लिए रवाना होगी।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close