ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि। ग्वालियर में शुक्रवार सुबह नोयडा के टि्वन टावर्स की तर्ज पर ही एक भवन को ढहाया गया। यह भवन से एयरपोर्ट की हवाई पट्टी नजर आ रही थी। जिससे एयरपोर्ट के लिए खतरा बन गया था। यह भवन काे ढहाने की कार्रवाई जिला प्रशासन व नगरनिगम की टीम ने की है। इस भवन को प्रधानमंत्री की सुरक्षा करने वाले स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप ने चिन्हित किया था। इसके बाद से ही यह भवन प्रशासन व निगम ने इस भवन को अपने टारगेट पर लिया था।

घटनाक्रम के मुताबिक 17 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी श्योपूर में कूनाे में अफ्रीकी चितों काे छोड़ने के लिए आए थे। महाराजपुरा एयरपोर्ट पर उतरे थे। उनके आगमन से पहले उनकी सुरक्षा करने वाले स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप यानी एसपीजी ने सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया था। इसी दौरान एयरपोर्ट के पास उन्हें भवन नजर आया। जब एसपीजी की सरुक्षा टीम ने भवन का जायजा लिया तो वहां से एयरपोर्ट की हवाई पट्टी, खासतौर से एयरफोर्स की हवाई पट्टी नजर आ रही थी। ऐसे में एसपीजी काे आशंका थी कि यह भवन एयरपोर्ट की सुरक्षा के लिए खतरा बन सकता है। तभी एसपीजी की टीम ने जिला प्रशासन को हटाने का सुझाव दिया था। इसके बाद से ही प्रशासन व नगरनिगम के टारगेट पर यह भवन आ गया था।

टि्वन टावर्स की तर्ज पर ढहा भवन: प्रशासन व नगरनिगम ने भवन को ढहाने की कागजी औपचारिकता को पहले ही पूरा कर लिया था। इसके बाद शुक्रवार सुबह प्रशासन व नगरनिगम की टीम भवन पर पहुंची। भवन को नोयडा के टि्वन टावर्स की तर्ज पर ढहाया गया। महज कुछ ही सेकंड में भवन जमीन पर आ गया। इस दौरान आसपास भी कोई क्षति नहीं पहुंची। हालांकि मौके पर विरोध को रोकने के लिए पुलिस बल भी तैनात किया गया था। हालांकि किसी ने विरोध नहीं किया। हालांकि मौके पर सैकड़ों की भीड़ एकत्रित हो गई थी।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close