- पहली लहर की तरह तीसरी लहर भी देर तक चलेगी,मिलते रहेंगे संक्रमित

ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। ठंड से थोड़ी राहत मिली है। मौसम में सुधार हुआ तो लोगों ने भी घर के बाहर कदम बढ़ा दिए। इधर सहलग के चलते विवाह समारोह में लोगों के बीच मेलजोल बढ़ने लगा है। तीसरी लहर में सर्दी,जुकाम, बुखार के लक्षण ने जहां एक ओर राहत दी ताे दूसरी ओर लोगों को लापरवाह बना दिया । जिसका असर आने वाले वक्त में देखने को मिल सकता है। गणितज्ञ व डाक्टर आशंका जता रहे हैं कि तीसरी लहर ,पहली लहर की तरह लंबी चल सकती है। एमआईटीएस कॉलेज के गणितज्ञ डा आरएस जादौन का कहना है कि तीसरी लहर अपने चरम पर है, शहर में केस घटने भी लगे हैं और देश भर में चरम 30 जनवरी तक आ चुका होगा। लेकिन इस बार केस पहली लहर की तरह लंबे समय तक मिलते रहेंगे। क्योंकि कोविड नियमों का पालन न करना बच्चे, युवा, बुजुर्ग सभी को परेशानी में डालने वाला है। इसलिए सावधानी रखें और कोविड से बचें।

11 माह चली थी पहली लहर

कोरोना की पहली लहर 11 माह चली थी। मार्च 2020 से कोरोना के केस मिलना शुरू हुए थे और कोराेना अपने चरम पर सितंबर 2020 में पहुंचा था। लेकिन इसके बाद भी जनवरी तक कोरोना के केस मिलते रहे और 8 फरवरी को पहली लहर की समाप्ती की घोषणा हुई थी। जबकि दूसरी लहर में मार्च 2021 में केस मिलना शुरू हुए और फरवरी में कोरेाना अपने चरम पर आ गया था तथा मई के आखिर में केस मिलना लगभग बंद हो गए थे। डा ऋतिक शर्मा का कहना है कि जिस गति से दूसरी लहर में केस मिलना शुरू हुए उसी गति के साथ कोरोना चला भी गया। लेकिन तीसरी लहर में केस मिलने की गति धीमी है तो इस बार पहली लहर की तरह तीसरी लहर भी लंबी चल सकती है।

विवाह समारोह में नहीं हो रहा कोविड नियमों का पालन

सहलग आ चुका है, शादी विवाह हो रहे हैं। जिनमें बच्चे,युवा व बुजुर्ग सभी शामिल हो रहे हैं। शासन प्रशासन ने भले ही लेागों की संख्या निर्धारित की हो लेकिन विवाह समारोहों में भीड़ जमा हो रही है। जिनके मुंह पर न तो मास्क है और नहीं शारीरिक दूरी का पालन किया जा रहा है। विवाह समारोह में वेपरवाही व लापरवाही साफ देखी जा सकती है।

बाजारों में भी बढ़ी चहल पहल

खराब मौसम के कारण लोग घरों में थे या फिर उनका आना जाना कम था। लेकिन मौसम में सुधार हुआ और सहलग होने से बाजारों में भी चहल पहल बढ़ गई है। बाजार में दुकानदार से लेकर ग्रहाकों के बीच कोविड नियमों का पालन न ताे किया जा रहा है और न हीं कराया जा रहा है।

ओमिक्रोन का बीए.2 और बीए.3 वायरस परेशानी में डाल सकता

गणितज्ञ डा आरएस जादौन का कहना है कि वायरस के म्युटेशन से ओमीक्रोन में हल्का सा बदलाव आया और ओमीक्रोन बीए2,बीए3 का वायरस लंग्स संक्रमण पैदा कर रहा है इस तरह के कुछ केस मिले हैं। हालांकि ग्वालियर में वायरस का कौन सा स्वरुप लोगों को बीमार कर रहा है इसकी पुष्टी अभी नहीं हुई है। हालांकि बीए.1 अधिक घातक नहीं बताया गया है।

इनका कहना है-

पहली लहर की तरह कोरोना की तीसरी लहर लंबी चल सकती है। केस की संख्या तो नहीं बढ़ेगी पर मरीज मिलते रहेंगे। इसलिए सावधानी रखें और कोविड नियमों का सभी पालन करें। विवाह समारोह में निर्धारित संख्या से अधिक लोग मिलने पर कार्रवाई की जाएगी।

कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, कलेक्टर

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local