ग्वालियर,(नईदुनिया प्रतिनिधि)। गोकशी के मामले में तनाव बढ़ने की आशंका के चलते पुलिस और प्रशासन सतर्कता बरत रहा है। इसी के चलते इस मामले में जेल गए आरोपितों के रिश्तेदार और साथियों के शस्त्र लाइसेंस कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने निरस्त कर दिए हैं। कलेक्टर ने 17 लाइसेंस निरस्त किए हैं। वहीं महाराजपुरा पुलिस ने गाेमांस बेचने के शक में तीन लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है।

महाराजपुरा स्थित ग्राम चक रायपुरा गांव में रहने वाले शईद खान, बटरी खान, मुरादी खान और पप्पू खान को गाय की हत्या करने के शक में पकड़ा था। इनके यहां से मांस भी बरामद हुआ था। इन लोगों पर पशु क्रूरता अधिनियम व अन्य धाराओं में एफआइआर दर्ज की गई। इन आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। यहां हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं ने हंगामा किया था, तब पुलिस सक्रिय हुई थी। इस मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया के ट्वीट के बाद और सरगर्मी बढ़ गई। विवाद बढ़ने की आशंका के चलते कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने महाराजपुरा क्षेत्र में रहने वाले आरोपितों के रिश्तेदार व साथियों को चिन्हित किया। इनके शस्त्र लाइसेंस निरस्त कर दिए गए। इस मामले में इन सभी की भूमिका संदिग्ध मानी है, साथ ही कलेक्टर ने अपने आदेश में यह भी लिखा है कि यह लोग हथियारों का दुरुपयोग कर कभी भी गंभीर घटना घटित कर सकते हैं। उधर सीएसपी महाराजपुरा रवि भदौरिया ने बताया कि फारुक खान पुत्र अब्दुल खान निवासी अलावलपुर, हरियाणा, इस्माइल खान पुत्र सिताब खान निवासी चाचौड़ा, गुना, शाहिद खान पिता इस्माइल खान निवासी चाचौड़ा गुना को भी गिरफ्तार किया गया है। यह सभी लोग महाराजपुरा इलाके में रहते हैं और शक है कि ढाबों पर गाेमांस बेचते हैं। इन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

इनके शस्त्र लाइसेंस हुए निरस्त: हसमत खान निवासी चकरायपुरा, गुलशन बेगम निवासी चकराय साहब का पुरा, अली खान निवासी चकरायपुरा, राजा खान निवासी चकरायपुरा, मोहम्मद राजा खान निवासी चकरायपुरा, नसरीन बानो निवासी चकरायपुरा, हनीफ खान निवासी चकरायपुरा, सज्जन खान निवासी चकरायपुरा, लाल खान निवासी यकरायपुरा, सन्नी बाई निवासी चकरायपुरा, अब्दुल हुसैन निवासी चकरायपुरा, आसिफ खान निवासी चकरायपुरा, आकाश खान निवासी चकरायपुरा, सलामत खान निवासी चकरायपुरा, असरफ खान निवासी कुंअपपुरा, जफरुद्दीन खान निवासी चकरायपुरा, हसन खान निवासी कुंअरपुरा के शस्त्र लाइसेंस निरस्त किए गए।

दो आरोपितों ने स्वीकार किया था काटी थी गाय: इस मामले में महाराजपुरा थाना प्रभारी प्रशांत यादव ने बताया कि जब दो आरोपितों से पूछताछ की गई थी तो इन्होंने गाय काटने की पुष्टि की थी। इन्होंने गाय काटकर मांस पकाने की जानकारी दी थी। इसके चलते इन पर गौवंश हत्या प्रतिषेध अधिनियम के तहत भी एफआइआर दर्ज की थी। उधर अब इस मामले में पुलिस विशेष निगाह रख रही है। इंटरनेट मीडिया पर जो पोस्ट वायरल हो रही हैं, उन पर भी प्रशासन निगाह रखे हुए हैं। क्योंकि यहां तनाव बढ़ने की आशंका है। उधर गांव में अभी भी फोर्स तैनात है। पुलिस अधिकारी भी यहां भ्रमण कर रहे हैं।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close