- 24 सितंबर से दिन छोटे व रात बड़ी होने लगेंगी और सूर्य की किरणों की तीव्रता कम हो जाएगी

- आज के बाद धीरे धीरे शीत ऋतु का भी आगमन शुरू हो जाएगा

ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। 23 सितंबर को दिन और रात बराबर होंगे। यानि दिन व रात 12-12 घंटे के होंगे। इसके बाद से दिन छोटे और रात बड़ी होने लगेगी। ज्योतिषाचार्य सुनील चोपड़ा ने बताया कि 23 सितंबर को होने वाली खगोलीय घटना में सूर्य उत्तर गोलार्ध से दक्षिण गोलार्ध में प्रवेश के साथ उसकी किरणे तिरछी होने के कारण उत्तरी गोलार्ध में मौसम में सर्दभरी रातें महसूस होने लगती है। इस लिहाज से सायन सूर्य के तुला राशि में प्रवेश होने पर 23 सितंबर को दिन-रात बराबर होंगे। इस दिन बारह घंटे का दिन और बारह घंटे की रात होगी। सूर्योदय और सूर्यास्त भी एक ही समय होगा। यह खगोलीय घटना यहां स्थापित वेधशाला में प्राचीनतम यंत्रों के माध्यम से आसानी से देखी जा सकती है।

सूर्य के उत्तरी गोलार्ध पर विषवत रेखा पर होने के कारण ही 23 सितंबर को दिन व रात बराबर होते है। खगोलीय घटना के बाद दक्षिण गोलार्ध में सूर्य प्रवेश कर जाएगा और उत्तरी गोलार्ध में धीरे-धीरे रातें बडी़ होने लगेंगी। पृथ्वी के मौसम परिवर्तन के लिए वर्ष में चार बार 21 मार्च, 21 जून, 23 सितंबर व 22 दिसंबर को होने वाली खगोलीय घटना आम आदमी के जीवन को प्रभावित करती है। दक्षिण और उत्तर गोल पृथ्वी की मध्य रेखा को भूमध्य या विषवत रेखा कहते हैं। जब सूर्य दक्षिण की ओर अग्रसर होता है, तो दक्षिण गोल सूर्य कहलाता है। जब सूर्य उत्तर की ओर जाता है, तो उत्तर गोल कहलाता है। इन दोनों स्थिति की अवधि छह माह होती है। 24 सितंबर से सूर्य के दक्षिणी गोलार्ध में प्रवेश के कारण सूर्य की किरणों की तीव्रता उत्तरी गोलार्ध में धीरे धीरे कम होने लगेगी जिससे शरद ऋतु का प्रारंभ होती है।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close