- रेलवे का हिस्से का काम पूरा होने के बाद सेतु संभाग ने किया था काम शुरू

ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर की यातायात व्यवस्था को सुगम बनाने के लिए शहर में दो ओवर ब्रिज का निर्माण किया जा रहा है। इन ओवर ब्रिज का निर्माण कार्य कछुआ चाल से चला, जिसके चलते प्रोजेक्ट पांच साल से अधिक से अधिक लग गया। जबकि टेंडर होने के 24 महीने में कार्य पूरा हो जाना चाहिए था। गाडर वाली पुलिया से होते हुए तानसेनगर रोड व रेसकोर्स रोड बन निर्माणाधीन रेल ओवर ब्रिज का काम अब पूरा होने की स्थिति में आ गया है। रेलवे के हिस्से पर स्लैब डलने के बाद पीएडब्ल्यूडी के सेतु संभाग ने काम शुरू कर दिया है। इस पुल का निर्माण नवंबर 2022 में पूरा कर दिया जाएगा। जबकि कलेक्ट्रेट से नीडम होते हुए ओवर ब्रिज का कार्य अप्रैल 2023 में पूरा होगा।

गाडर वाली पुलिया होते हुए रेसकोर्स रोड व तानसेन रोड को जोड़ने के लिए वर्ष 2017 में प्रोजे शुरू किया गया था। सबसे पहले काम पीडब्ल्यूडी के सेतू संभाग ने दोनों ओर की लाइनें पूरी कर दी, जब कार्य रेलवे पटरी पर पहुंचा तो पुलि लेट हो गया। रेलवे के हिस्से पर जाकर पुल की कछुअा चाल हो गई। अप्रैल 2022 में रेलवे ने अपने हिस्से का काम पूरा किया। रेलवे के हिस्से का काम पूरा होने के बाद सेतू संभाग ने चार महीने बाद अपना कार्य शुरू किया है। पुल के स्लैब डल चुके हैं। पुल के ऊपर सड़क बनाने का काम चल रहा है। इस पुल के बनने से पड़ाव पुल का भी लोड कम होगा, क्योंकि तानसेन नगर की ओर जाने वाले व्यक्ति को अभी पड़ाव पुल होते हुए जाना पड़ता है। साथ ही लोगों का समय भी बचेगा। रेसकोर्स रोड से तानसेन नगर जाने वाले व्यक्ति को चक्कर लगाना पड़ रहा है।

रेसकोर्स रोड से तानसेनगर ओवर ब्रिज

-रेसकोर्स रोड से गाडर वाली पुलिया होते हु तानसेन नगर रोड ओवर ब्रिज का काम शुरू हुआ था 2017 में

-रेल ओवर ब्रिज की लागत 35.81 करोड़

-पुल की लंबाई की लंबाई 870 मीटर

-पुल की चौडा़ई 7.4 मीटर

-कार्य की स्थिति 80 %

- 2020 में कार्य पूर्ण करने का था लक्ष्य

नीडम का पुल अगले साल ही होगा पूरा

विवेकानंद नीडम से कलेक्ट्रेट रोड को जोड़ने वाले ओवर ब्रिज 2019 में पूरा हो जाना चाहिए था, लेकिन इस पुल की चाल काफी धीमी रही। इस कारण छह साल से इसका निर्माण चल रहा है। रेलवे ने अपने हिस्से पर काम शुरू किया है। स्लैब डालने का कार्य शुरू किया है। रेलवे के हिस्से पर स्लैब डालने का काम पूरा होने में समय लगेगा। उसके बाद सेतू संभाग का काम शुरू हो गया। इस काम को खत्म करने में लंबा वक्त लग जाएगा। सेतू संभाग ने इस पुल का काम अप्रैल 2023 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा है।

विवेकानंद नीडम से कलेक्ट्रेट रोड पर ओवर ब्रिज का काम शुरु हुआ था- 2016 में

-रेलवे ओवर ब्रिज की लागत 26.63 करोड़

-पुल की लंबाई 1027 मीटर

-पुल की चौडा़ई 15 मीटर

लक्ष्य था 2019 में

इनका कहना है

- रेसकोर्स रोड व तानसेन नगर रोड को जोड़ने वाले ओवरब्रिज का काम 15 नवंबर तक पूरा हो जाएगा। रेलवे के हिस्से में देर से काम शुरू हुआ था, जबतक रेलवे का हिस्सा पूरा नहीं होता है तबतक हमारे हिस्से का काम शुरू नहीं कर सकते हैं। काम तेज गजि से चल रहा है। नीडम का पुल अप्रैल 2023 में पूरा होगा।

ज्ञानवर्धन मिश्रा, कार्यपालन यंत्री सेतू संभाग पीडब्ल्यूडी

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close