ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। गोकशी के मामले में महाराजपुरा स्थित चक रायपुरा गांव में दूसरे दिन भी भारी पुलिस बल तैनात रहा। गोकशी के मामले में जो दो आरोपित फरार थे, वह थाने में हाजिर हो गए। दो आरोपित बीते रोज ही दबोच लिए गए थे। चारों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया। इन चारों को कड़ी सुरक्षा में कोर्ट में पेश किया गया, क्योंकि पुलिस अधिकारियों को आशंका थी यहां हंगामा हो सकता है। इसके चलते पहले पूरी कागजी कार्रवाई की गई, तब तक इन्हें जेल वाहन में ही बैठाए रखा गया। कागजी कार्रवाई होने के बाद कोर्ट में पेश किया गया। अभी जो मांस एक आरोपित के घर से बरामद किया, उसे हैदराबाद स्थित लैब में भेजा गया है। यहां स्पष्ट होगा कि यह गौमांस था या नहीं, क्योंकि आरोपित इसे भैंस का बता रहे थे। जबकि गांव वालों का कहना है- यह लोग बाजार से मांस लेकर आए थे। उधर इंटरनेट मीडिया पर भी पुलिस निगरानी रख रही है।

महाराजपुरा स्थित चक रायपुरा गांव में रहने वाले कुछ लोगों के यहां गौ हत्या कर गौ मांस पकाए जाने की सूचना मिली थी। इसके बाद यहां बजरंग दल सहित अन्य हिंदू संगठन के कार्यकर्ता इकठ्ठे हो गए थे। यहां हंगामा बढ़ा तब पुलिस पहुंची। यहां तनाव के चलते पूरे दिन भारी पुलिस बल तैनात रहा। पुलिस ने पशु क्रूरता अधिनियम, मप्र गौवंश वध प्रतिषेध अधिनियम 2004 के तहत सईद खान, मुरादी खन, पप्पू खान, बटरी खान पर एफआइआर दर्ज की। दो आरोपित पहले ही दबोच लिए थे। इसके बाद दो आरोपी सईद खान और बटरी खान हाजिर हो गए। चारों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया। चारों को जेल भेजे जाने के बाद अब यहां तनाव होने की आशंका के चलते फोर्स तैनात रहा। गांव के लोगों के वाट्स एप पर एक न्यूज एप द्वारा चलाई गई भ्रामक खबर भी चल रही थी, जिस पर पुलिस अधिकारियों ने भी संज्ञान लिया है।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close