रामेंद्र परिहार ग्वालियर। नईदुनिया। आनलाइन ठगी के अपराधों में जामताड़ा की राह पर चल निकला ग्वालियर इस अपराध से मुकाबला भी कर रहा है। राज्य साइबर सेल के ग्वालियर जोन के दो आरक्षक ऐसे ठगों की राह में दीवार बनकर खड़े हैं। इन्होंने 'स्टाप बैंकिंग फ्रॉड' नाम से वाटसऐप-टेलीग्राम ग्रुप बनाया है। साढ़े तीन साल में यह ग्रुप देशभर में 12 करोड़ रुपये ठगों से बचा चुका है।

इसमें ग्वालियर के लोगों से ठगे गए करीब तीन करोड़ रुपये भी शामिल हैं। ग्रुप में देशभर के करीब दो हजार सदस्य हैं। आरक्षक पुष्पेंद्र सिंह यादव व राधारमन त्रिपाठी ने मार्च 2017 में ग्रुप बनाया था। इसमें देश की 75 ई-वालेट कंपनी के नोडल अधिकारी, देशभर के साइबर सेल के सदस्य और पुलिस थाना के साथियों को जोड़ा गया।

आनलाइन धोखाधड़ी की सूचना मिलते ही जानकारी ग्रुप में दी जाती है। जिस कंपनी के ई-वालेट में ठगी का पैसा जाता है। उसका नोडल अधिकारी राशि का आदान-प्रदान रोक देता है। अगले दो दिन में यह रुपये संबंधित व्यक्ति के खाते में वापस भेज दिए जाते हैं। इस मामले में जरूरी यह है कि पीड़ित को ठगी के 12 से 15 घंटे के अंदर साइबर टीम को सूचना देनी होती है।

ऐसे आया था यह विचार

राधारमन व पुष्पेंद्र के पास मुरार का एक फेरी वाला आया था। उसने बताया कि किसी ने उसके एटीएम कार्ड का नंबर पूछकर खाते से 40 हजार रुपये निकाल लिए हैं। दोनों आरक्षकों ने ई-वालेट कंपनी की मदद से उसे यह रकम वापस दिलवाई। इसके बाद दोनों आरक्षकों को ग्रुप बनाने का विचार आया।

इनका कहना है

पिछले कुछ सालों में 12 करोड़ रुपये हमारे स्टाप बैंकिंग फ्रॉड ग्रुप के माध्यम से बचाए गए हैं। टीम अच्छा काम कर रही है। लोगों को जागरूक करने का प्रयास कर रहे हैं।

सुधीर अग्रवाल, पुलिस अधीक्षक, ग्वालियर

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020