ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। नवंबर 2021 तक अमृत परियोजना की पानी सप्लाई का काम पूरा हो जाना चाहिए, यह नोट कर लीजिए। अक्टूबर तक 56 डीएमए के काम पूरे होंगे, जो 40 बचेंगे वह नवंबर तक पूरे हो जाने चाहिए। वरना में आप पर कार्रवाई करूंगा। पानी पर सांसद विवेक शेजवलकर का यह गुस्सा 31 जुलाई 2021 को दिशा की भी बैठक में नजर आया था। अब चार माह बाद भी वही निर्देश उनको दोहराने पड़े, क्योंकि नगर निगम के अफसरों ने सांसद के निर्देशों को न सुना न माना।

सांसद गुरुवार को जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति(दिशा) की बैठक में योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे। अब उन्होंने 31 दिसंबर समयसीमा तय की है। वहीं बैठक में कांग्रेस विधायक प्रवीण पाठक और सतीश सिंह सिकरवार ने अमृत के कार्याें को लेकर और सड़कों का रेस्टोरेशन न होने पर अफसरों को कटघरे में खड़ा कर दिया और कहा कि अफसर फाइलों में कुछ और दिखाते हैं, जबकि हकीकत कुछ और होती है। बैठक में हंगामा भी हुआ और कलेक्टर को सांसद और विधायकों के बीच तीखी बहस को शांत कराना पड़ा। कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में आयोजित इस बैठक में केंद्र सरकार द्वारा संचालित विभिन्न जनकल्याणकारी एवं महत्वपूर्ण योजनाओं की समीक्षा की गई। बैठक में जिला पंचायत प्रशासकीय समिति की अध्यक्ष मनीषा यादव, विधायक प्रवीण पाठक, विधायक डा. सतीश सिकरवार, विधायक सुरेश राजे, कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, निगमायुक्त किशोर कान्याल, सीईओ जिला पंचायत आशीष तिवारी सहित समिति के सदस्य और विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

टंकी निर्माण के साथ 31 तक पूरा करें डीएमए कार्यः बैठक में सांसद ने कहा, शहर के लिए अतिमहत्वपूर्ण अमृत परियोजना के तहत पेयजल टंकियों के निर्माण सहित सभी डीएमए का कार्य 31 दिसंबर तक पूर्ण कर लिए जाएं। उन्होंने यह भी कहा कि अमृत परियोजना के तहत सीवर एवं पानी की लाईन बिछाने के लिए जो सड़कें खोदी गई हैं, उसे शीघ्र पूर्ण गुणवत्ता के साथ ठीक करने का कार्य किया जाए।

विधायकों ने की आपत्ति कार्यो का होगा सत्यापनः बैठक में विधायकों ने निर्माण कार्यो की गुणवत्ता पर आपत्ति की। इस पर सांसद ने कहा- अमृत के तहत सीवर का जो कार्य मुरार एवं दक्षिण विधानसभा क्षेत्र में दो पैकेजों में किया गया है, उसकी पूरी जानकारी जनप्रतिनिधियों को उपलब्ध कराई जाए। साथ ही किए गए कार्यों का सत्यापन भी निगम दल बनाकर करें। मीटर लगाने का कार्य पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में करें। सांसद ने कहा पानी के मीटर लगाने का कार्य भी किया जाना है। इसके लिए निगम पांच हजार मकानों पर मीटर लगाने का पायलेट प्रोजेक्ट तैयार कर काम शुरू करे। साथ ही एक्सप्रेस लाइन पर भी मीटर लगाया जाएं।

विधायक बोले_कोई काम नहीं होते,सांसद ने कहा-ऐसा नहींः बैठक में विधायक प्रवीण पाठक ने कहा कि अमृत योजना के तहत कोई काम नहीं हो रहे हैं, दक्षिण विधानसभा क्षेत्र में काम सिर्फ कागज पर दिखाए गए हैं, लेकिन हकीकत में काम नहीं हुआ है। अफसर फाइलों में झूठी जानकारी लाते हैं। इस पर सांसद ने कहा कि आप आरोप लगा रहे हैं, जबकि ऐसा नहीं है। वहीं सतीश सिकरवार ने भी पानी और सीवर को लेकर अपनी समस्याएं गिनाईं। बैठक खत्म होने से करीब 15 मिनट पहले विधायक प्रवीण पाठक चले गए।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local