- दिल्ली सहित बाहर के शहरों में कट रहा चालान, आर्बिट्रेशन ट्रिब्यूनल में चल रहा केस

Gwalior RTO News: ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। प्रदेशभर में एक अप्रैल 2019 से पहले बिक्री हुई और निर्मित मॉडल की गाड़ी पर हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट (नंबर प्लेट) न मिलने से गाड़ी मालिकों को चपत लग रही है। दिल्ली सहित दूसरे शहरों में जाने पर चालान का झटका झेलना पड़ रहा है। नंबर प्लेट बनाने वाली कंपनी और मप्र शासन के बीच केस आर्बिट्रेशन ट्रिब्यूनल में चल रहा है, इस कारण दूसरी कंपनी को काम भी नहीं दिया जा सकता है। इससे बचने के लिए गाड़ी मालिक के लिए प्रमाण पत्र का विकल्प है, जिसके बारे में किसी को जानकारी तक नहीं है। परिवहन विभाग ने भी इसे आमजन के बीच पहुंचाना जरूरी नहीं समझा। परिवहन विभाग के प्रमाण पत्र को ले जाने पर दिल्ली या दूसरे राज्यों में चालान नहीं कटेगा। इसमें लिखकर दिया जाता है कि मप्र शासन और कंपनी के बीच केस चलने के कारण हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाना फिलहाल संभव नहीं है।

ज्ञात रहे कि प्रदेश में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाने का काम परिवहन विभाग ने लिंक उत्सव कंपनी को दिया था। यह कंपनी हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाने का कार्य करती थी, लेकिन देरी और लगातार शिकायतों के बाद यह कंपनी सवालों के घेरे में आ गई। लगातार अनियमितताओं व शिकायत के बाद अक्टूबर 2014 में परिवहन विभाग ने कंपनी का ठेका निरस्त कर दिया। इसके बाद कंपनी ने हाई कोर्ट की शरण ली, जहां से कंपनी को राहत मिली। हाई कोर्ट ने कंपनी को कार्य जारी रखने के निर्देश दिए। शासन ने सुप्रीम कोर्ट में कंपनी के खिलाफ शिकायत की, जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने हाई कोर्ट के आदेश को खारिज कर दिया। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट में अपना पक्ष रखते हुए लिंक उत्सव कंपनी ने कहा कि एक मौका शेष है और मामला आर्बिट्रेशन ट्रिब्यूनल पहुंचा। अब यह मामला आर्बिट्रेशन ट्रिब्यूनल में चल रहा है।

दिल्ली में कट गया 2200 का चालान

ग्वालियर निवासी अमन राठौर डेढ़ माह पहले अपनी कार से दिल्ली गए थे। दिल्ली में पुलिस ने उनकी गाड़ी हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट न होने पर रोक ली और 2200 रुपये का चालान काट दिया। अमन जैसे एक नहीं बल्कि सैकड़ों उदाहरण हैं।

अब तक 150 प्रमाण पत्र ही हुए जारी

परिवहन विभाग की जानकारी के अनुसार पुरानी गाड़ी को हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट को लेकर 150 प्रमाण पत्र जारी किए गए हैं। इन प्रमाण पत्र में शासन और लिंक उत्सव कंपनी का हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट का मामला ट्रिब्यूनल में चलने की जानकारी बताई जाती है। इसके दिखाने के बाद दिल्ली सहित बाहर कहीं चालान से बचा जा सकता है।

जानकारी न प्रचार, झेल रहे लोग

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट न होने के कारण आए दिन दिल्ली व बाहर जाने वाले लोगों को गलती न होने पर भी चपत लग रही है। परिवहन विभाग को इसके लिए प्रचार प्रसार करना चाहिए और आनलाइन ही प्रमाण पत्र दिए जाने की व्यवस्था करना चाहिए। ग्वालियर से आने जाने वालों में बड़ा वर्ग है, खासकर दिल्ली जाने वाले लोगों की संख्या भी काफी है।

लोग परेशान होते हैं

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट को लेकर मामला लंबित होने के कारण बाहर पुरानी गाड़ी वाले वाहन मालिकों का चालान कट जाता है, यह सही है। प्रमाण पत्र को लेकर लोगों तक जानकारी पहुंचाना बहुत जरूरी है।

शैलेंद्र श्रीवास्तव, पूर्व परिवहन आयुक्त, मप्र

प्रमाण पत्र दे रहे हैं

एक अप्रैल 2019 से पहले के वाहनों पर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट न होने पर उन्हें प्रमाण पत्र दिए जाने का विकल्प है, जिससे उनका चालान न कटे। लिंक उत्सव कंपनी का मामला ट्रिब्यूनल में चल रहा है। अभी तक 150 लोगों को यह प्रमाण पत्र दिया जा चुका है। लोग परिवहन विभाग से प्रमाण पत्र ले जा सकते हैं।

रिंकू शर्मा, एआरटीओ,ग्वालियर

Posted By: anil.tomar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags