-आजादी के अमृत महाेत्सव का आखिरी महाभियान,टीकाकरण बचाएगा महामारी से जान

ग्वालियर,(नईदुनिया प्रतिनिधि)। आजादी के 75 साल पूरे होने पर अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। जिसको लेकर 30 सितंबर तक सतर्कता टीका निश्शुल्क लगाया जा रहा है। इसके बाद सतर्कता टीका लगवाने के लिए शुल्क अदा करना पड़ेगा। अमृत महोत्सव में 6 महाभियान रखे गए थे, जिसमें सतर्कता टीका अधिक से अधिक लोगों को लगाया जाना था। 28 सितंबर बुधवार को आखिरी महाभियान है। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि इस अभियान का अधिक से अधिक लोग लाभ लें। क्योंकि इसके बाद सतर्कता टीका लगाने के लिए शायद ही सरकार कोई अभियान चलाए। इसलिए सभी वयस्क जिन्हें दूसरा टीका लगवाए छह महीने का वक्त हो चुका है, वह केंद्र पर पहुंचकर टीकाकरण कराएं। बुधवार को जिले में 335 केंद्र बनाए गए हैं, जिसमें 189 केंद्र शहर में बने और बाकी के ग्रामीण क्षेत्र में बनाए गए हैं। टीकाकरण को गति देने के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से लेकर सभी आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों काे केंद्र पर पहुंचाने का काम करेंगे।

केंद्र पर पहुंचे और टीका लगवाएंः टीकाकरण के नोडल अधिकारी डा रामकुमार गुप्ता का कहना है कि पहला,दूसरा व तीसरा टीका लगवाने के लिए आनलाइन पंजीयन कराने की आवश्यकता नहीं है। व्यक्ति सीधे टीकाकरण केंद्र पर पहुंचे और टीका लगवाएं। जिसे पहला टीका लगवाना है, वह अपने साथ पहचान पत्र लेकर पहुंचे। जिसे दूसरा व तीसरा टीका लगना है, वह अपने साथ वही मोबाइल नंबर के साथ पहुंचे, जिसे उसने पहला टीका लगवाते समय रजिस्टर्ड कराया है।

323 लोगों को लगा टीकाः टीकाकरण की रफ्तार आम दिनों में धीमी चल रही है। जिले में 323 लोगों को पचास केंद्रों पर टीका लगा। जिसमें 300 लोगों ने तीसरा टीका लगवाया, जबकि बाकी लाेगाें ने पहला व दूसरा टीका लगवाया। जिले में अब तक 37 लाख से अधिक टीके लग चुके हैं, इनमें 17 लाख लोगों को पहला व 16 लाख को दूसरा टीका लग चुका है, जबकि तीसरा टीका ढाई लाख से अधिक लोग लगवा चुके हैं।

फैक्ट फाइलः

पहला टीका-17,87,257

दूसरा टीका-16,77,354

तीसरा टीका-2,61,439

कुल टीका-37,26,050

वर्जन-

आजादी के अमृत महोत्सव के चलते टीकाकरण महाभियान चलाया जा रहा है। बुधवार काे आखिरी महाभियान है। कोरोना वायरस से बचाव के लिए शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनी रहे, इसके लिए तीसरा टीका लगाने पर सरकार जोर दे रही है। 30 सितंबर तक सतर्कता टीका निश्शुल्क है, इसके बाद शुल्क लगेगा। इसलिए अधिक से अधिक संख्या में लोग टीकाकरण का लाभ लें और खुद को महामारी से सुरक्षित रखें।

डा रामकुमार गुप्ता, जिला टीकाकरण अधिकारी

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close