ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि

अमृत योजना के तहत सीवर और पानी की लाइनें बिछाने के लिए खोदी गई सड़कों का रेस्टोरेशन(पैचवर्क) शुरू हो गया है। इसमें भी घोटाले की कहानी शुरू हो गई है। पहले तो सफेद गिट्टी के नाम पर मिट्टी डाली गई और और गिट्टी-डामर की इतनी पतली परत बिछाई जा रही है कि उसके ऊपर से दो बार भी यदि भारी वाहन गुजर जाए तो सड़क फिर गड्डों में बदल जाए।

नहीं कर रहे मॉनीटरिंग

अमृत योजना के लिए पूरे शहर की सड़कों को खोदा गया है। बरसात से पहले इसका रेस्टोरेशन होना था जो नहीं किया गया। इस कारण बरसात में शहर की जनता को परेशानी का सामना करना पड़ा। अब खुदी सड़कों पर पहले सफेद गिट्टी बिछाई जा रही है। इसमें केवल 30 फीसदी गिट्टी का चूरा होना चाहिए। लेकिन हुआ इसके ठीक विपरीत है। जो सफेद गिट्टी डाली जा रही है उसमें 70 फीसदी चूरा(मिट्टी) है। निगम के जिम्मेदार अधिकारियों की ठेकेदार से साठगांठ के चलते आपत्ति उठाने वाला कोई नहीं है। निगम के इंजीनियर भी मौके पर नहीं पहुंच रहे।

तीन इंच की लेयर जरूरी

रेस्टोरेशन के लिए डामरीकृत सड़क पर पहले डामरयुक्त मोटी गिट्टी बिछाना जरूरी है। इसकी मोटाई तीन इंच होना चाहिए। उसके ऊपर दो इंच मोटाई की डामरयुक्त पतली गिट्टी(जीरा) की परत बिछाई जाती है। लेकिन ठेकेदार केवल डामरयुक्त जीरे की एक इंच पतली परत ही बिछा रहे हैं। रविवार को ठेकेदार ने विनय नगर में रेस्टोरेशन का काम शुरू किया है। ठेकेदार को विनय नगर सेक्टर तीन व चार में रेस्टोरेशन करना है।

Posted By: Nai Dunia News Network