ग्वालियर (ब्यूरो)। जीवाजी विश्वविद्यालय में कॉपियों के मूल्यांकन में गड़बड़ी सामने आई है। रीओपन के बाद नंबर दोगुने हो हो रहे हैं। तीन सदस्यीय कमेटी ने पहले एलएलबी प्रथम सेम के छात्रों की कॉपियों को दोबारा चेक कराने की जरूरत नहीं बताई थी। कमेटी ने रिपोर्ट दी थी कि नंबर और कम हो जाएंगे, लेकिन जब इन्हीं कॉपियों को रीओपन किया गया तो नंबर दोगुने हो गए। करीब 50 छात्रों के नंबरों में बदलाव हुआ है।

जून 2019 में एलएलबी प्रथम सेम का रिजल्ट घोषित किया गया था। एमएलबी कॉलेज सहित अंचल के अन्य कॉलेज के छात्र अलग-अलग विषय में फेल हो गए थे। एमएलबी के छात्रों ने परीक्षा नियंत्रक के कक्ष में धरना दे दिया था और उन्हें बाहर नहीं जाने दिया। अंचल के कॉलेज के छात्र भी अपनी समस्या लेकर आए थे। छात्रों के आंदोलन पर परीक्षा नियंत्रक ने कहा था कि कॉपियां दिखा देते हैं, अगर बदलाव की गुंजाइश होगी तो दोबारा मूल्यांकन करा देंगे।

यह सुनकर छात्रों ने हंगामा कर दिया था। इसके बाद मामला कुलसचिव के पास पहुंचा। कुलसचिव ने फैसला लिया कि परीक्षा कमेटी के पास मामले को भेजा जाएगा, ताकि तय हो सके कि कॉपियों का पुनः मूल्यांकन कराया जाए या नहीं। इसके बाद एमएलबी कॉलेज के लॉ के प्रोफेसर डॉ. विनोद कांकर व जेयू के लॉ विभाग के डीन प्रो.संजय कुलश्रेष्ठ को बुलाया गया। इन प्रोफेसरों ने कॉपियों को जांचा तो कुछ में प्रेम कहानियां लिखी थीं।

प्राफेसरों ने परीक्षा नियंत्रक को रिपोर्ट दी कि दोबारा मूल्यांकन की जरूरत नहीं है। अगर कापियों को दोबारा जांचा गया तो नंबर और कम हो जाएंगे। जिसके बाद छात्रों ने रीओपन के फार्म भर दिए। एक महीने बाद एलएलबी प्रथम सेम का रीओपन का रिजल्ट घोषित किया गया। रीओपन रिजल्ट में अधिकतर छात्र पास हो गए। 17 नंबर से बढ़कर 36 नंबर तक हो गए। अधिकतर छात्रों को पासिंग मार्क्स दिए गए हैं। इस रिजल्ट से कई सवाल खड़े हो रहे हैं। इस संबंध में परीक्षा नियंत्रक से संपर्क किया तो उनका फोन बंद आ रहा था।

ये सवाल हो रहे हैं खड़े

- पहले शिक्षकों ने कॉपियां गलत चेक की थीं। री ओपन में नंबर बढ़ गए। किस मूल्यांकनकर्ता ने कॉपियां चेक करने में गलती की यह जांच नहीं की गई।

- 16, 17, 10, 6 नंबर तक बढ़ाए गए हैं और छात्र पास हो गए।

- करीब 50 छात्रों के नंबर में बदलाव हुआ है, जबकि इनके नंबर काफी कम थे।

बीएससी में 200 से अधिक छात्रों के रिजल्ट में बदलाव

बीएससी 5वें सेम का रीओपन का रिजल्ट घोषित किया गया है। इस रिजल्ट में भी करीब 200 से अधिक छात्रों को पास किया गया है। नंबर में काफी इजाफा हुआ है। जिससे छात्र फेल से पास हो गए।

- अन्य परीक्षाओं के रिजल्ट में भी बदलाव किए गए हैं।

परीक्षा नियंत्रक से बात कीजिए

- मल्यांकन कार्य मैं नहीं देखता हूं। एलएलबी का क्या मामला है, यह मेरी जानकारी में नहीं है। परीक्षा नियंत्रक सही से बता सकते हैं। इसलिए उनसे बात कीजिए - आईके मंसूरी, कुलसचिव जेयू

हमें सैंपल कॉपियां दिखाई थीं

- जेयू ने सैंपल कॉपियां दिखाई थीं। उन कॉपियों में कुछ नहीं लिखा था। इस वजह से दोबारा मूल्यांकन की जरूरत नहीं बताई थी। अन्य छात्रों की कॉपियां सामने आई हैं, उनमें बदलाव हुआ है- डॉ. विनोद कांकर, प्रोफेसर एमएलबी कॉलेज