- 11वें दिन 6 संस्थाओं ने किया अखंड पाठ

ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। ग्वालियर की इतिहास में पहली बार हो रहे 15 दिवसीय महामंत्र णमोकार के अखंड पाठ में 11वें दिन समाज की 6 संस्थाओं के सदस्यों ने अलग-अलग समय पर पाठ किया। णमोकार मंत्र की महत्ता का पता इस वाकये से चलता है कि एक बार किसी विदेशी ने जैन समाज के व्यक्ति से कहा कि हमारे यहां तो हर व्यक्ति के पास एक कार है, लेकिन भारतवासियों के पास ऐसा कुछ नहीं है। इस पर जैन व्यक्ति ने जैन दर्शन का उल्लेख करते हुए कहा कि अच्छा आपके यहां हर व्यक्ति के पास कार है, लेकिन भारत में प्रत्येक जैन के पास महामंत्र णमोकार है। इतना सुनकर विदेशी चुप हो गया। सुख में हो या दुख में, णमोकार मंत्र का जाप तो अंतरंग के चलता ही रहना चाहिए।

जैन समाज के प्रवक्ताललित जैन ने बताया कि गुरुवार को स्वतंत्र जैन चिंतन महिला प्रकोष्ठ, मुनि सेवा संघ महिला मंडल, जैन मिलन महिला थाटीपुर, जैन मिलन महिला रत्नत्रय विनय नगर, जैन मिलन महिला सिकंदर कंपू तथा जैन मिलन ग्वालियर के सदस्यों ने 24 घंटे अनवरत णमोकार मंत्र का पाठ किया। इससे पहले स्वतंत्र जैन चिंतन महिला प्रकोष्ठ की डॉ वीणा जैन एवं अनीता जैन के नेतृत्व में संस्था की सदस्यों ने आर्यिकाश्री विशुद्धमती माताजी के पाद प्रच्छालन कर आरती उतारी तथा अष्ट द्रव्य के अर्घ्य समर्पित कर आशीर्वाद लिया।

धर्म के सहारे चलोगे तो किनारे पहुंच जाओगे:माताजी

इस अवसर पर पट्ट गणिनी आर्यिकाश्री विज्ञमती माताजी ने कहा कि धर्म के सहारे चलोगे तो किनारे पहुंच जाओगे। जिस व्यक्ति की श्रद्धा टूट जाती है, वह जिंदगी से टूट जाता है। जीवन में उन सहारों को मत ढूंढो जो डूबा देते हैं। धर्म के सहारे चलोगे तो किनारे तक पहुंच जाओगे। धर्म गुरुओं का सहारा लेने वाला डूबने से बच जाता है। माताजी ने कहा कि सिद्धान्त रत्न भारत गौरव गणिनी आर्यिकाश्री विशुद्धमति माताजी अपने भक्तों को अपने जैसा बनाने आई हैं। उनकी भावना को आपको समझना होगा। भक्त और भगवान के बीच ऐसा रिश्ता होना चाहिए, जिसे कोई तोड़ न सके। माताजी ने कहा कि आत्मा राग द्वेष के जाल में फंसी है, जिसे आज तक इस चेतन मन के व्यवहार, स्वभाव को पहचान नहीं पाई। शासनाधीश जब न्याय के सिद्धांत को भूल जाता है तो उसे लोग पसंद नहीं करते। आचार्य भगवंत कहते हैं कि जिस पात्र में पेंदी नहीं होती, वह द्रव्य को गिरा देता है। हमारी आत्मा में श्रद्धा की पेंदी नहीं होगी, तो ये जीव द्रव्य लुढ़क जाएगा।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close