ग्वालियर, नईदुनिया रिपोर्टर। बाल झड़ने की समस्या तेजी से बढ़ती जा रही है। यह अपनी चपेट में सबसे ज्यादा युवाओं को ले रही है। वजह कुछ भी हो, मगर वे 18 से 30 साल की उम्र में ही बाल झड़ने से 40 के पार के नजर आ रहे हैं। इस विषय पर बॉलीवुड ने भी अब काम शुरू कर दिया है। वह तीन घंटे की कहानी में किसी न किसी किरदार की मदद से यह बताने की कोशिश कर रहा है कि बाल झड़ने के बाद एक युवा के दिल पर क्या गुजरती है। ऐसी कहानी में शामिल है इस शुक्रवार सिनेमाघरों में प्रदर्शित 'उजड़ा चमन' और आने वाली 'बाला' फिल्म। 'बाला' फिल्म का अभी ट्रेलर लॉन्च हुआ है, इसमें मुख्य किरदार आयुष्मान खुराना यह तक कहते हुए नजर आए हैं 'यह हेयर लॉस नहीं हो रहा है, बल्कि हमारी आइडेंटिटी लॉस हो रही है'।

इस समस्या को लेकर 'नईदुनिया लाइव' ने विशेषज्ञों से चर्चा की। उन्होंने बताया बालों की समस्या को लेकर उनके पास खासी संख्या में पहुंच रहे हैं। अगर बात महीने की करें तो आंकड़ा 30 प्रतिशत तक पहुंच रहा है। वे बातों ही बातों में बताते हैं बाल न होने से उनकी शादी सुंदर लड़की से नहीं हो पा रही है। साथ ही उनका कॉन्फीडेंस भी गायब हो चुका है। हालांकि इस समस्या का समाधान सर्जिकल और नॉनसर्जिकल ट्रांसप्लांट में छिपा हुआ है। दोनों तरह के ट्रांसप्लांट से सलमान खान और हिमेश रेशमिया जैसे बड़े नाम जुड़ चुके हैं।

मुख्य कारण बना एंड्रोजेनिटिक एलोपेशिया

जीआर मेडिकल कॉलेज में डर्मेटोलॉजी विभाग के एचाओडी व प्रोफेसर डॉ. अनुभव गर्ग बताते हैं पुरुषों में गंजेपन का मुख्य कारण एंड्रोजेनिटिक एलोपेशिया है। यह अनुवांशिक समस्या के कारण होता है जिसमें एंड्रोजन हार्मोन कम हो जाते है। कुछ साल पहले तक यह समस्या करीब 50 की उम्र में शुरू होती थी, जिसका संबंधित व्यक्ति की सेहत पर कोई फर्क नहीं पड़ता था। लेकिन अब पॉल्युशन और डाइट के कारण भी यह समस्या 20 साल की उम्र से ही देखी जा रही है। इसमें पहले सामने की ओर से साइड के बाल जाते हैं और फिर बीच से बालों का झड़ना शुरू होता है। बच्चों और महिलाओं में इसके अलग कारण होते हैं, लेकिन अभी सबसे ज्यादा युवा इससे पीड़ित सामने आ रहे हैं।

दवा और पीआरपी से इलाज संभव

बालों के झड़ने की समस्या का समाधान दो तरीकों से होता है- सर्जिकल और नॉन सर्जिकल। यदि बाल झड़ना शुरू होते ही चिकित्सकीय परामर्श लिया जाए तो इसे रोका जा सकता है। इसमें लंबा समय लगता है और कई बार कुछ सालों तक दवा लेना होता है। मरीजों में इतना सब्र नहीं होता है। इसके साथ ही यदि सर पर पूरी तरह चिकना नहीं हुआ है और रोएं हैं तो पीआरपी थैरेपी से बाल दोबारा पाए जा सकते हैं। इसमें शरीर से करीब 10 से 15 मिलीलीटर खून निकाला जाता है और फिर इसे प्लाज्मा में बदलकर त्वचा में जरूरत की जगह पर इंजेक्ट करते हैं। प्लाज्मा में ग्रोथ फैक्टर होता है जो बालों को दोबार उगने में मदद करता है।

सर के चिकने होने के बाद ट्रांस्प्लांट ही है उपाय

सीनियर हेयर ट्रांस्प्लांट एक्सपर्ट डॉ. कुलदीप सक्सेना ने बताया कि सर का कोई कोई एरिया चिकना हो गया है तो वहां कभी भी नए बाल नहीं आ सकते हैं। इसमें हेयर ट्रांस्प्लांट की करना होता है। व्यक्ति कितना भी गंजा हो जाए उसके सर के पीछे की तरह घोड़े की नाल के आकार में बाल हमेशा मेंटेन रहते हैं। विज्ञान में इसे परमानेंट एरिया कहा जाता है। यहां से यदि 50 प्रतिशत बाल निकाल भी लिए जाएं तो वह हिस्सा गंजा नहीं दिखता है। ट्रांस्प्लांट में यहां से बाल निकाल कर बाकी हिस्सों पर ट्रांस्प्लांट करते हैं। इसके बाद इनकी ग्रोथ नेचुअल हेयर की तरह ही होती है। व्यक्ति को उसके गंजेपन के हिसाब से 2 से 6 सिटिंग लेने तक की जरूरत होती है।

ले रहे हैं रोबोटिक सर्जरी मदद

गंजेपन से निजात पाने के लिए परेशान लोग रोबोटिक सर्जरी का लाभ भी ले रहे हैं। शहर में भी हेयर ट्रांस्प्लांट को लेकर कई शोध चल रहे हैं और साथ ही साथ नई तकनीकें भी यहां पर उपलब्ध हैं। नए बाल पाने के लिए लोग शहर में रोबोटिक सर्जरी का सहारा लेने से भी पीछे नहीं हट रहे हैं। विशेषज्ञों के अनुसार रोबोटिक सर्जरी काफी सटीक होती है और इसके परिणाम भी बेहतर होते हैं।

सामाजिक कारण भी

बालों की समस्या को लेकर लोग काफी इमोशनल भी होते हैं। कई बार चिकित्सकों के पास युवा इस तरह कि समस्या भी लेकर आ रहे हैं कि गंजापन होने के कारण उनकी शादी नहीं हो पा रही है या लोग मजाक बनाते हैं। चिकित्सकों के अनुसार गंजेपन की समस्या मरीज की मनोस्थिति पर भी प्रभाव डालती है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020