ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि

डेंगू से जंग करने के लिए समाजसेविकाओं ने भी कमर कसी है। उन्होंने अपने घर व पड़ोस में साफ सफाई कर जानलेवा बीमारी डेंगू के डंक को बिदा कर दिया। देखा जा रहा है कि जहां पर भी साफ पानी 48 घंटे से अधिक समय में लिए भरा होता है वहां पर डेंगू लार्वा पनप जाता है। डेंगू का मच्छर बच्चों को अपना शिकार बनाता है। हमारी लापरवाही के कारण बच्चे डेंगू जैसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त होकर अस्पताल पहुंच रहे हैं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए समाजिक क्षेत्र में कार्य करने वालीं महिलाएं रेनू जैन, वर्षा अरोरा, मीटू अग्रवाल, गुलंद जावेद, डॉ अनामिका शर्मा एवं गीताजंली द्वारा सफाई अभियान चलाते हुए डेंगू का विदा किया।

14 डेंगू पॉजिटिव फिर निकले-

सोमवार को जीआरएमसी से डेंगू पॉजिटिव 33 मरीजो ंकी सूची जारी हुर्ह। जिसमें 14 मरीज शहर के उन स्थानों से निकले जहां पर मलेरिया व निगम का अमला लार्वा जांच का दावा करता था।अब तक 97 मरीज शहर में डेंगू पॉजिटिव पाए जा चुके हैं। सोमवार को डीडी नगर की स्नेहा 12 वर्ष, प्रियांसू 16 वर्ष और सोनपाल 26 वर्ष को डेंगू निकला। इसी तरह शताब्दीपुरम के 11 साल के हरसुल, थाटीपुर में रहने वाले 8 साल के आयुष, 18 साल के रोहन, 22 वर्ष अपूर्वा डेंगू पॉजिटिव निकलीं। माधव गंज की साढ़े चार साल की नव्या, ईदगाह कंपू पर रहने वाले 12 साल का साहिल, गुड़ा पर रहने वाला 5 साल का बिट्टू,10 साल का राज गुर्जर, गिरवाई के ढाई साल के समीर, 15साल की रेखा और 22 साल के विशाल को डेंगू जैसी गंभीर बीमारी ने अपनी चपेट में लिया है।

घर सुरक्षित तो सब सुरक्षित-

सामाजिक कार्यकर्ता गीताजंली गिरवाल डेंगू जैसी खतरनाक बीमारी को भगाने के लिए घर के कूलर का पानी साफ किया। गीताजंली का कहना था कि घर सुरक्षित तो सब सुरक्षित।

घर को साफ रखिए डेंगू नहीं होगा-

डॉ नीलिमा शर्मा ने घर में रखे फ्लोवर पॉट का पानी बदलते हुए कहा कि साफ पानी में ही डेंगू का लार्वा पनपता है। इसलिए 48 घंटे से अधिक समय तक जमा नहीं होने दें।

न पानी जमा होगा न डेंगू पनपेगा-

मीठू अग्रवाल ने अपने शोरुम में रखे गमलों का पानी बदलते हुए कहा कि घर हो या बाहर ,कहीं पर भी साफ पानी जमा न होने दें। घर को दस मिनट का समय दें और सफाई कर डेंगू जैसी जानलेवा बीमारी को बाहर करें।

पड़ोसी का भी ध्यान रखें-

समाज सेविका वर्षा अरोरा का कहना है कि डेंगू का मच्छर दो सौ मीटर के दायरे में ही शिकार करता है। इसलिए अपने घर के साथ पड़ोसी का कूलर भी देखें और जरुरत पड़े तो साफ भी कर दें पर डेंगू न पनपने दें।

गमले में भी लार्वा पनप सकता है-

समाजसेविका रेणु जैन का कहना था कि जरुरी नहीं कि कूलर और पानी की टंकी में ही लार्वा मिले। जहां पर भी साफ पानी वहां डेंगू का खतरा। इसलिए गमलों में झांके और पानी जमा न होने दें।

वर्जन

डेंगू, मलेरिया, चिकिनगुनिया जैसी खतरनाक बीमारियों को शहर से भगाने के लिए स्वास्थ्य मंत्री ने निर्देश दिए हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने 25 कर्मचारी कलेक्टर की अनुमति पर रखने का कहा है। जिससे डेंगू लार्वा की जांच में सहयोग मिल सकेगा। इसके साथ ही खाली प्लॉट व स्थानो ंपर जमा पानी को साफ करवाने तथा संबंधित को नोटिस आदि भी किए जाएगें।

मनोज पाटीदार, मलेरिया अधिकारी

Posted By: Nai Dunia News Network