- 35 गोदामों में बनेंगे उपार्जन केन्द्र, निजी गोदामों में भी 70 हजार टन की क्षमता रिजर्व।

- बुधवार को कलेक्टर कार्यालय में हुई जिला उपार्जन समिति की बैठक।

फोटो-11 हरदा। रबी उपार्जन की तैयारियों को लेकर समीक्षा करते कलेक्टर एस. विश्वनाथन।

हरदा। नवदुनिया प्रतिनिधि

कलेक्टर एस. विश्वनाथन की अध्यक्षता में रबी उपार्जन की पूर्व तैयारियों की समीक्षा के लिए कलेक्ट्रेट कक्ष में बुधवार को जिला उपार्जन समिति की बैठक आयोजित की गई। बैठक में श्री विश्वनाथन ने निर्देश दिए कि पिछले वर्ष उपार्जन के लिए 23 गोडाउनों में उपार्जन केंद्र बनाए गए थे। इस बार 35 गोदामों पर उपार्जन केंद्र स्थापित किए जाए। उन्होंने एआरसीएस को निर्देशित किया कि गेहूं खरीदी के 72 घंटे में परिवहन किया जाना है। इसके लिए टेगींग एवं वेगींग होने के बाद ही परिवहन की रिक्वेस्ट डाली जाए। ताकि परिवहनकर्ता को ज्यादा समय तक इंतजार न करना पड़े।

बैठक में भंडारण की समीक्षा के दौरान बताया गया कि वर्तमान में 4 लाख 60 हजार टन की भंडारण क्षमता उपलब्ध है। साथ ही सायलों में भी 10 हजार 500 टन की भंडारण क्षमता उपलब्ध है। निजी गोदामों द्वारा भी 70 हजार टन की क्षमता प्रस्तावित है। इसके अतिरिक्त 50 हजार टन भंडारण क्षमता के ओपन केप बनाए जा रहे है। इसके अतिरिक्त स्पेस की कमी होने पर आसपास के जिले देवास एवं खण्डवा द्वारा भी 70 हजार टन की स्पेस देने के लिए आश्वस्त किया गया है। इस प्रकार वर्तमान में जिले में भंडारण की कोई समस्या नहीं है। उन्होंने नापतौल विभाग के अधिकारी को निर्देशित किया कि वे तौल कांटों की जांच कर सत्यापन करें। एलडीएम को निर्देशित किया कि वे करेन्सी चेस्ट की पोजिशन की मॉनीटरिंग करें, ताकि उपार्जन के दौरान किसानों को नगद की समस्या न हो। उपार्जन केंद्रों पर सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए गए।

बैठक में कलेक्टर श्री विश्वनाथन ने नरवई न जलाने के लिए किसानों को संकल्पित करने के लिए विशेष ग्राम सभा के आयोजन के लिये सीईओ जिला पंचायत को प्रस्ताव भेजने के लिए उपसंचालक कृषि श्री चन्द्रावत को निर्देश दिए। कलेक्टर एस. विश्वनाथन ने जिले के सभी किसानों से अपील की है कि जिन किसानों ने रबी उपार्जन वर्ष 2020-21 के तहत गेहूं खरीदी के लिए पंजीयन नहीं कराया है। वे अपना पंजीयन अवश्य कराएं। प्रत्येक किसान को इस वर्ष नवीन पंजीयन कराना अनिवार्य है। पिछले वर्ष करवाया गया पंजीयन मान्य नहीं होगा। बैठक में उपसंचालक कृषि एमपीएस चन्द्रावत, जिला खाद्य अधिकारी केएस पेण्ड्रो, सहायक आयुक्त सहकारिता अखिलेश चौहान, डीएम नान सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

-------------------------

हंडिया में रोका बाल विवाह

हरदा। महिला एवं बाल विकास विभाग व चाइल्ड लाइन की टीमों ने बुधवार को हंडिया पहुंच कर बाल विवाह रोकवाया। विभाग को हंडिया में बाल विवाह होने की सूचना मिली थी। जिस पर टीमों ने तुरंत कार्यवाही करते हुए हंडिया पहुंचकर दबिश दी। वधु की मार्कशीट में जब जन्मतिथि देखी गई तो 12 मार्च 2005 निकली। जबकि वर की उम्र करीब 26 वर्ष है। टीम ने बाल विवाह को रोकवाया और दोनों के माता-पिता को बाल कल्याण समिति लेकर आए। यहां माता-पिता को समझाइश दी गई और वे बाल विवाह न करने के लिए तैयार हो गए और पंचनामा पर हस्ताक्षर कर दिए।

------------------------

टीवी मरीजों का सर्वे एवं जागरूकता कार्यक्रम हुआ

हरदा। जिला स्वास्थ्य समिति (क्षय) द्वारा बुधवार को जिला जेल में एसीएफ (एक्टीव केस फाइंडिंग) अंतर्गत टीबी संभावित मरीजों का सर्वे एवं जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिला अस्पताल से आए सीनियर टीबी लेब सुपरवाईजर भुजराम जिनोदिया एवं परामर्शदाता संजय ढाका द्वारा बंदिया को टीबी रोग के लक्षण एवं बचाव के संबंध में जागरूकता के लिए विस्तृत जानकारी दी गई। बंदियों में संभावित मरीजों को बलगम जांच कराने के लिए प्रेरित किया गया। इसके अंतर्गत 10 संभावित टीबी मरीज की रिपोर्ट परीक्षण के लिए ली गई। कार्यक्रम में अन्य स्टॉफ मौजूद रहा।

------------------------

Posted By: Nai Dunia News Network