हरदा। नवदुनिया प्रतिनिधि

शनिवार को मौसम साफ होते ही किसान मूंग की फसल कटाई में जुट गए हैं। मजदूरों के माध्यम से खेतों में कटाई की जा रही है। बारिश के कारण खेतों में खड़ा हुआ काला पड़ गया है। किसानों ने बताया कि बारिश होने के कारण मूंग की फसल को नुकसान पहुंचा है। खेतों में कटाई की गई फसल को ज्यादा नुकसान हुआ है। लेकिन अब तक जिम्मेदार विभागों ने फसल का सर्वे नहीं किया है। जिले में 82 हजार 500 हेक्टेयर रकबे में ग्रीष्मकालीन मूंग की फसल की बुआई की गई थी। जिले में एक जून से 4 जून तक 32.4 मिलीमीटर औसत वर्षा बारिश का असर मूंग की फसल पर देखने को मिला है। कृषि उपज मंडी से मिली जानकारी के अनुसार पिछले 16 अप्रैल से 31 मई तक कृषि उपज मंडी में 67 हजार 413 क्विंटल मूंग की खरीदी की गई। बताया जा रहा कि पहले मूंग की बुआई करने वाले किसानों की उपज पहले आने पर अच्छा भाव मिला। किसानों का अच्छी गुणवत्ता वाला मूंग 9 हजार रुपये प्रति क्विंटल तक बिका है। समर्थन मूल्य से अधिक भाव पर भी किसानों से मूंग की खरीदी की गई। लेकिन समर्थन मूल्य पर खरीदी शुरू होने की जानकारी मिलते ही मंडी में मूंग के दाम नीचे गिर गए। तब से अब तक मूंग के दामों में उछाल नहीं आ सका है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना