हरदा। नवदुनिया प्रतिनिधि

जिला अस्पताल की व्यवस्थाओं की पोल उस वक्त खुल गई जब कलेक्टर संजय गुप्ता, पुलिस अधीक्षक मनीष अग्रवाल, सीएमएचओ डॉ. सुधीर जैसानी के सामने एक अस्पताल का कर्मचारी फागिंग मशीन को चालू करता रहा, लेकिन वह चालू नहीं हो सकी। दरअसल बुधवार को जिले में डेंगू नियंत्रण जन अभियान शुरू किया गया है। जिला चिकित्सालय में कृषि मंत्री कमल पटेल द्वारा वीडियो कांफ्रंेस के माध्यम से जिला हरदा में भी डेंगू पर प्रहार कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया है। उपस्थित जनप्रतिनिधियों, स्वास्थ्य विभाग के समस्त अधिकारियों, कर्मचारियों तथा समस्त नागरिकों को डेंगू से बचाव के लिए पानी से भरी टंकिया, गमलों, कूलर आदि को सप्ताह में एक बार खाली करने की अपील की गई। लेकिन जिला अस्पताल में पीने एवं उपयोग करने की पानी की टंकियों में ही केंचुए तैरते हुए दिखाई दिए, इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि अस्पताल प्रबंधन द्वारा किस स्तर पर जिला अस्पताल की व्यवस्थाएं दुरुस्त रखी जाती हैं। कार्यक्रम के दौरान कलेक्टर संजय गुप्ता सहित जिला प्रशासन का अमला भी डेंगू से प्रहार कार्यक्रम अंतर्गत जिला चिकित्सालय में स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगाई गई प्रर्दशनी में प्रदर्शित लार्वाभक्षी गम्बूसिया मछली, कीटनाशक पायरेथ्रम, लार्वानाशी टेमीफास की जानकारी ली गई।

कर्मचारी थक गया, लेकिन शुरू नहीं हुई मशीन

जिला अस्पताल में बुधवार को लगाई गई प्रदर्शनी में दिखावे के लिए सिविल सर्जन डॉ. शिरीष रघुवंशी द्वारा फागिंग मशीन भी रखी गई थी। जिसे कलेक्टर ने चालू करने का कहा, लेकिन काफी मशक्कत के बाद फागिंग मशीन शुरू करने वाला कर्मचारी हांफ गया पर मशीन शुरू नहीं हुई। इधर कृषि मंत्री पटेल कहते रह गए कि शहरी क्षेत्र में डेंगू व मलेरिया नियंत्रण के उद्देश्य से नियमित फागिंग की जाना चाहिए। उन्होंने निर्देश दिए कि शहरी क्षेत्र व ग्रामीण क्षेत्र में अनावश्यक जल जमाव के दोषी लोगों पर अर्थदंड लगाने की कार्रवाई की जाए। इसके अलावा प्रशासनिक अमले ने डेंगू पर प्रहार अभियान अंतर्गत मैदानी स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं एवं आशा कार्यकर्ताओं द्वारा शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में एडिज लार्वा सर्वे कार्य किया गया एवं पंपलेट वितरण द्वारा जनसामान्य को डेंगू से बचाव की समझाइश पर भी चर्चा की गई।

मंत्री ने कहा, साफ सफाई रखें

कार्यक्रम का शुभारंभ करने वाले कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा, कि डेंगू फैलाने वाले एडिज मच्छर की उत्पत्ति स्थल को कम करने के लिए गढ्ढो, टायरों ,कबाड आदि में पानी जमा न रहने देने और नियमित सफाई की सलाह की दी गई। डेंगू जैसे लक्षण दिखाई देने पर तत्काल चिकित्सक को दिखाने एव उपचार लेने की अपील की गई। डेंगू से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग के साथ , अन्य विभाग ,जनप्रतिनिधियों का सहयोग आवश्यक है। सभी मिलकर इस बिमारी से बचाव के लिए कार्य करें। सभी आमजन को अपने घरो में एवं आस - पास साफ सफाई रखने तथा पानी को जमा न होने दे एवं जनसामान्य को जागरूक करने हेतु संदेश दिया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local