हरदा। नवदुनिया प्रतिनिधि

स्वामी विवेकानंद शासकीय महाविद्यालय एवं शासकीय आदर्श महाविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में राष्ट्रीय स्तर पर वेबिनार का आयोजन मंगलवार को किया गया। इसमें नेशनल एजुकेशन पॉलिसी 2020 ए पैराडिगाम शिफ्ट इन हायर एजुकेशन विषय पर विचार रखे गए। इसका संचालन मॉडल कॉलेज की सहायक प्राध्यापक डॉ मीनाक्षी राठी ने की। इसमें स्वामी विवेकानंद शासकीय पीजी महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ संगीता बिले ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को भारत के केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा 29 जुलाई 2020 को अनुमोदित किया गया। नई शिक्षा नीति ने पिछली राष्ट्रीय नीति जो कि 1986 में लागू हुई थी की जगह ली। यह नीति प्राथमिक शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक के साथ साथ ग्रामीण और शहरी भारत दोनों में व्यवसायिक प्रशिक्षण के लिए एक व्यापक ढांचा है। नीति का लक्ष्‌य 2040 तक भारत की शिक्षा प्रणाली को पूर्णरूपेण बदलना है।

वेबिनार में शासकीय आदर्श महाविद्यालय के प्राचार्य वीके अग्रवाल बताया कि 1986 के बाद 2020 में नई शिक्षा नीति लागू हुई। इसमें बड़े पैमाने पर बदलाव हुआ। निजीकरण उदारीकरण एवं वैश्वीकरण के बारे में विस्तार से चर्चा की गई। 34 वर्षों तक पीढ़ी केअंतर में मानव संसाधन की आवश्यकता के लिए नई शिक्षा नीति की आवश्यकता के महत्व को बताया गया। वेबिनार की प्रथम वक्ता डॉ रुपाली मेमन द्वारा 34 साल पहले और अब टेक्नोलॉजी में जो बदलाव आया है, उसके विषय में बताया गया। इसके साथ ही साथ यह शिक्षा नीति में बदलाव की आवश्यकता पर जोर देते हुए यूनिवर्सिटी और कॉलेज के एक नए दृष्टिकोण का उत्पादन होने पर प्रकाश डाला गया। इसके अलावा अन्य वक्ताओं ने भी अपने विचार रखे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local